विहिप नेता हत्याकांड / रैकी करने वाले आरोपी को पुलिस ने पकड़ा, चार आरोपी फरार



VHP leader massacre: Police arrests accused of racking, four accused absconding
X
VHP leader massacre: Police arrests accused of racking, four accused absconding

  • इंदौर के संदीप तेल हत्याकांड में फरार था मृतक विहिप नेता युवराज
  • लगभग 22 संदिग्धों से पुलिस कर रही पूछताछ
     

Dainik Bhaskar

Oct 10, 2019, 02:16 PM IST

मंदसौर. नौ माह पुराने इंदौर के संदीप तेल हत्याकांड में फरार रहे विहिप के विभाग सहमंत्री युवराजसिंह चौहान (45) की मंदसौर में बुधवार को खुलेआम गोलियां दागकर हत्या कर दी गई थी। गुरुवार को पुलिस ने हत्या में शामिल एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। वहीं चार आरोपी फरार है। लगभग 22 संदिग्धों से पुलिस पूछताछ कर रही है।


पुलिस द्वारा प्रारंभिक जांच में हत्या का कारण पुराना मछली कारोबार विवाद बताया जा रहा है। युवराज की रैकी करने वाले आरोपी अनिल दरिंग को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जिससे पूछताछ की जा रही है। इसके अलावा मृतक के परिजनों, दोस्तों और कारोबार से जुड़े लोगों से भी जानकारी जुटाई जा रही है। मामले में पुलिस ने 22 संदिग्धों को भी पूछताछ के लिए थाने बुलाया है। 


गौरतलब है कि बुधवार को मृतक युवराज गीताभवन अंडरब्रिज के पास एमपीईबी के काउंटर पर बिल भरने गया था। इसके बाद होटल पर चाय पीने गया। तभी बाइक सवार तीन बदमाश वहां अाए। दो बदमाश युवराज के पास पहुंचे। एक ने कमर में पीछे से गोली मारी। फिर दूसरे ने पहले जबड़े, फिर सीने पर दो फायर किए। युवराज ने मौके पर दम ताेड़ दिया था।

 

प्रत्यक्षदर्शी एमपीईबी के कर्मचारी संदीपसिंह शक्तावत ने बताया बाइक काउंटर के पास ही स्टार्ट थी। वारदात के बाद दाेनाें शूटर्स लाैटे और तीसरे साथी के साथ बाइक पर ही अभिनंदन नगर की ओर भाग निकले थे।  


सुधाकर के साथ काम करता था युवराज
बताया जाता है मृतक विहिप के विभाग सहमंत्री युवराजसिंह हिस्ट्रीशीटर सुधाकर राव मराठा के लिए काम करता था। स्थानीय स्तर पर एसआरएम केवल नेटवर्क का मालिक था। बताया जाता है इंदौर में संदीप तेल हत्याकांड में भी युवराजसिंह का नाम चर्चा में रहा। इसके चलते वह तीन माह तक फरार रहा। इससे पहले जावरा में अवैध हथियार के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार भी किया था।

 

एक साल पहले जन्मी थी रंजिश
करीब एक साल पहले मछली काराेबार से जन्मी रंजिश में बुधवार सुबह विहिप के विभाग सहमंत्री व एसअारएम केबल के मालिक युवराजसिंह चाैहान (45) के मर्डर काे साेनू गाेस्वामी हत्याकांड का बदला माना जा रहा है। रंजिश में दाेनाें पक्षों से यह दूसरी हत्या है। दो साल पहले साेनू गाेस्वामी की हत्या दशहरा के 13 दिन पहले हुई थी व इस दशहरे के अगले दिन युवराज की हत्या हुई। पुिलस के अनुसार अलावदाखेड़ी के फैजान, बसेर काॅलाेनी के नागेश गोस्वामी व 12 क्वार्टर निवासी अंकित तंवर इस हत्याकाण्ड के संदिग्ध हैं। मछली, केबल व प्रॉपर्टी कारोबार में युवराज के बराबर के प्रतिद्वंद्वी दीपक तंवर की तलाश जारी है। युवराज का मंगलवार रात को अज्ञात तत्वों से विवाद हुआ था।


मछली कारोबार काे लेकर 13 अक्टूबर 2017 काे साेनू गाेस्वामी की लल्लू उर्फ ललित सिकलीगर ने गोली मारकर हत्या की थी। तब से अनिल काम देख रहा था। रंजिश में 24 अप्रैल काे अनिल काे राहुल छपरी ने गाेली मारकर घायल किया था। पुलिस ने राहुल, हर्ष कोणावत, गोपीकिशन बरगुंडा, रवि उर्फ मोनू पाटीदार, नरेंद्र मालवीय काे गिरफ्तार किया था। सोनू की हत्या का बदला लेने युवराज की गोली मारकर हत्या की गई। युवराज ने डेढ़ महीने पहले ही मल्हारगढ़ के गाडगिल सागर में मछली का ठेका लिया था। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना