--Advertisement--

दुष्कर्म पीड़िता की आत्महत्या की भी जांच करेगी एसआईटी, पत्रकार की मौत से जुड़ा है मामला

बिल्डर से करोड़ों की अवैध वसूली के लिए उसे धमकाने की बात भी सामने आ रही

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 01:32 PM IST

इंदौर. एरोड्रम थाना क्षेत्र में रहने वाली एक महिला ने गुंडों से परेशान होकर घर में फांसी लगा ली। उसने सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें उसने एक पत्रकार की आत्महत्या के लिए खुद को जिम्मेदार बताया है और पहले जिन चार लोगों पर बलात्कार का केस दर्ज कराया था, उसमें से एक के साथ मर्जी से संबंध बनाने की बात कही है। मामले में एरोड्रम क्षेत्र के एक बिल्डर से करोड़ों की अवैध वसूली के लिए उसे धमकाने की बात भी सामने आई है। अभी पुलिस ने किसी को भी आरोपी नहीं बनाया है। पत्रकार की आत्महत्या के मामले की जांच एसआईटी द्वारा की जा रही है। सोमवार को आत्महत्या करने वाली महिला भी इस मामले में संदिग्ध थी अत: महिला की आत्महत्या की जांच भी एसआईटी द्वारा की जाएगी।


एएसपी मनीष खत्री ने बताया कि अशोक नगर में रहने वाली 27 वर्षीय महिला ने सोमवार को पंखे से रस्सी बांधकर फांसी लगा ली। उसके पास से एक पेज का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उसने लिखा है- मैं अपनी मर्जी से आत्महत्या कर रही हूं। पत्रकार अजय जायसवाल की मौत की जिम्मेदार मैं हूं। नितिन राजा और सुनील मुझे कई दिनों से परेशान कर रहे थे। लाखन पटेल से अपनी मर्जी से मैंने संबंध बनाए थे। पुलिस मेरे परिवार को बिलकुल परेशान नहीं करे। वीरेंद्र भैया आप मेरे बच्चों व पति का ख्याल रखना। पुलिस के मुताबिक, महिला का पति सिलाई करता है। उसके दो बच्चे हैं। घटना के समय सास बच्चों के साथ घर पर थी। सोमवार को पति किसी काम से बाहर गया था, उसने पत्नी को फोन किए तो उसने नहीं उठाए। मां को घर भेजा तो महिला फंदे पर लटकी मिली।


कुछ दिन पहले ही गैंगरेप का आरोप लगाया था
एएसपी के मुताबिक, महिला ने कुछ दिन पहले ही इलाके के गुंडे राजा सांखला, नितिन उर्फ जान यादव, सुनील और लाखन पटेल के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाया था। राजा और सुनील महिला के संपर्क में पहले से थे। इन्होंने इसे आधार बनाकर कई लोगों को संबंध बनाकर उनके वीडियो बनाने और रुपयों के लालच में फंसाने के लिए तैयार किया था। महिला की रिपोर्ट के बाद चारों आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। वहीं महिला के 164 के तहत भी बयान कराए जा चुके हैं। सूत्रों की मानें तो यह एक बड़ा रैकेट है, जिसमें कुछ गुंडा तत्व महिला को रुपयों का लालच देकर उससे गलत काम कराते थे। फिर लोगों के वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करते थे। इन्होंने एरोड्रम इलाके के एक कॉलोनाइज़र व बिल्डर के खिलाफ भी ऐसा ही करना चाहा था और 2 करोड़ की मांग की थी, लेकिन बिल्डर को जानकारी मिली तो उसने महिला से सबूत लेकर उसके खिलाफ षड्यंत्र रचने वालों के खिलाफ ही केस दर्ज करवा दिया था।