Hindi News »Madhya Pradesh »Itarsi» रेल बजट आज : नई ट्रेन की जगह कुछ ट्रेनों को ही स्टॉपेज मिलने की संभावना

रेल बजट आज : नई ट्रेन की जगह कुछ ट्रेनों को ही स्टॉपेज मिलने की संभावना

ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | भोपाल एक फरवरी को आम बजट के साथ ही आ रहे रेल बजट में भोपाल को नई ट्रेन की जगह कुछ गाड़ियों के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:20 PM IST

ट्रांसपोर्ट रिपोर्टर | भोपाल

एक फरवरी को आम बजट के साथ ही आ रहे रेल बजट में भोपाल को नई ट्रेन की जगह कुछ गाड़ियों के स्टॉपेज मिल सकते हैं। यह स्टॉपेज हबीबगंज स्टेशन पर होने की संभावना ज्यादा है। भोपाल और बैरागढ़ स्टेशन के विकास के लिए बड़ी राशि मंजूर हो सकती है।

ट्रैक मेंटेनेंस से लेकर रिप्लेसमेंट तक के लिए अलग से बजट का प्रावधान हर मंडल के लिए किया जा सकता है। हाल ही में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने संकेत दिए थे कि कंजेशन की वजह से नई ट्रेनें संभव नहीं होंगी। मौजूदा ट्रेनों को ही सुरक्षित और सही समय पर चलाने का लक्ष्य है।

भोपाल रेलवे स्टेशन के लिए हैं ये मांगें

स्टेशन के री-डेवलपमेंट के लिए 25 से 30 करोड़ रुपए। भोपाल से छपरा तक नई ट्रेन या कामायनी एक्सप्रेस का विस्तार हो। भोपाल से शुरू होने वाली गाड़ियां विंध्याचल, राज्य रानी, जोधपुर एक्सप्रेस का विस्तार हबीबगंज तक किया जाए। भोपाल-बीना, झांसी-इटारसी पैसेंजर को हबीबगंज तक ले जाना।

स्टेशन की साफ-सफाई व्यवस्था के लिए नए सिरे से कवायद हो।

हबीबगंज स्टेशन से हमें क्या चाहिए

पुणे और बेंगलुरू आने-जाने के लिए सप्ताह में दो से तीन दिन ट्रेन।

हबीबगंज-एलटीटी को प्रतिदिन चलाया जाए।

रीवा के लिए एक और ट्रेन हो।

एपी, तेलंगाना, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, यशवंतपुर संपर्क क्रांति जैसी ट्रेनों के स्टॉपेज।

गोवा एक्सप्रेस, राजधानी के हाल्ट भी मिलें।

बैरागढ़ स्टेशन के लिए जरूरी

अन रिजर्व टिकट काउंटर की संख्या बढ़े।

प्लेटफॉर्म से आवागमन गेट, इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कम से कम 10 करोड़ रुपए ।

इंदौर तरफ से आने वाली उन ट्रेनों का स्टॉपेज हो, जो बैरागढ़ नहीं रुकतीं।

इंक्वायरी सिस्टम में सुधार हो।

कारोबारियों को सूरत के लिए नई ट्रेन।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Itarsi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×