जबलपुर

--Advertisement--

बिजली गिरने से चट्टान के दो टुकड़े, एक हिस्से ने कहर बनकर चार मकानों को रौंदा

मंगलवार सुबह गरज-चमक के साथ बारिश हो रही थी। सर्दी होने की वजह से लोग अपने-अपने घरों में दुबके हुए थे।

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2018, 08:41 AM IST
havoc by splitting electricity and crushing four houses demolished

जबलपुर. मंगलवार सुबह गरज-चमक के साथ बारिश हो रही थी। सर्दी होने की वजह से लोग अपने-अपने घरों में दुबके हुए थे। सुबह 9.30 बजे तेज आवाज के साथ बदनपुर में एक बड़ी चट्टान पर िबजली गिरी। बिजली गिरते ही चट्टान के दो टुकड़े हो गए। चट्टान के एक टुकड़े ने चार मकानों को रौंद दिया। मकानों के मलबे में 7 लोग दब गए। चट्टान गिरते ही बदनपुर बस्ती में कोहराम मच गया। आसपास के लोगों ने मलबे में फंसे लोगों को बाहर निकाला। गंभीर रूप से घायल तीन लोगों को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। हादसे की सूचना मिलते ही एसडीआरएफ और होमगार्ड की टीम भी मौके पर पहुंच गई।

- मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि सुबह 9.30 बजे तेज आवाज में बिजली बदनपुर पहाड़ी की एक चट्टान पर गिरी। िबजली गिरने से बड़ी चट्टान के दो टुकड़े हो गए। चट्टान के एक टुकड़े ने चार मकानों को रौंद दिया। चट्टान का दूसरा टुकड़ा नीम के पेड़ से टकराकर रुक गया।

- मकानों के मलबे में 7 लोग दब गए। मलबे में लोगों के दबते ही बस्ती में कोहराम मच गया। आसपास के लोगों ने मलबे में दबे लोगों को बाहर िनकाला। मलबे में दबने से राजकुमार चौधरी 12 वर्ष, कांता बाई चौधरी 16 वर्ष, गोपाल चौधरी 22 वर्ष, भूरालाल चौधरी 55 वर्ष, रोहित ठाकुर 25 वर्ष, नंदनी चौधरी 25 वर्ष और 9 माह की निधि चौधरी घायल हुई है।

- घायलों को 108 एम्बुलेन्स की मदद से मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। गंभीर रूप से घायल राजकुमार चौधरी, कांता बाई चौधरी और गोपाल चौधरी को अस्पताल में रखा गया है। शेष घायलों को उपचार के बाद घर भेज दिया गया है।

एसडीआरएफ और होमगार्ड ने चट्टान पर लगाया सपोर्ट

- सीएसपी गोरखपुर अंजूलता पटले ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही एसडीआरएफ स्टेट िडजास्टर रिस्पांस फोर्स और होमगार्ड की टीम रेस्क्यू के लिए मौके पर पहुंच गई।

- तत्काल मकानों का मलबा हटवाकर देखा गया कि मलबा के नीचे कोई दबा तो नहीं है। एसडीआरएफ और होमगार्ड ने लुढ़की हुई चट्टानों पर सपोर्ट लगाया, ताकि चट्टान दोबारा नहीं लुढ़क सके। इसके बाद जिनके मकान चट्टान से धाराशाई हुए हैं, उन्हें तत्काल रैन बसेरे में भेजा गया।
15 मकान शिफ्ट कराए

- भारी भरकम चट्टान के दोबारा लुढ़कने के खतरे को देखते हुए जिला प्रशासन और नगर निगम ने 15 मकानों को खाली कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इनमें मुकेश झारिया, दीनदयाल झारिया, कलाबाई मेहरा, रविशंकर झारिया, राखी लाल मेहरा, धर्मेन्द्र अहिरवार, प्रकाश अहिरवार, भागीरथ अहिरवार, नब्बू विश्वकर्मा, आशा झारिया, भीकम ठाकुर, बबलू कोरी, उमेश झारिया, संतोष केवट आदि शामिल हैं। मकानों में रहने वालों को रैन बसेरे में भेजा जा रहा है।

havoc by splitting electricity and crushing four houses demolished
X
havoc by splitting electricity and crushing four houses demolished
havoc by splitting electricity and crushing four houses demolished
Click to listen..