--Advertisement--

केटीआर में बाघ ने बाघिन को मार डाला, किसली जोन में सुबह पड़ा मिला शव

मंडला स्थित कान्हा टाइगर रिजर्व में टी-83 बुडबुड़ी बाघिन की मौत हो गई।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 08:16 AM IST

मंडला (जबलपुर). मंडला स्थित कान्हा टाइगर रिजर्व में टी-83 बुडबुड़ी बाघिन की मौत हो गई। किसली जोन में रविवार सुबह उसका शव पाया गया। एक दिन पहले बाघिन के साथ बाघ को देखा गया था। आशंका जताई जा रही है कि नर व मादा बाघ के बीच संघर्ष में बाघिन को जान गंवानी पड़ी। बाघ ने बाघिन का पेट भी खा लिया।

- अधिकारी बाघिन की मौत की हकीकत का पता लगाने में जुट गए हैं। किसली जोन में बाघों की संख्या ज्यादा है। यहां पिछले तीन माह में अलग-अलग मादा बाघ के साथ शावक देखे जा रहे हैं।

- बाघों की प्रकृति ही उनकी दुश्मन बन रही है। आपसी संघर्ष व मेंटिग के लिए राजी न होने पर गुस्साए बाघ दूसरे मादा बाघों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इस घटना के पीछे भी यही वजह बताई जा रही है।
- संगम मेल टी-56 के नाम से जाने वाले बाघ को गत दिनों किसली जोन में ही बाघिन के साथ देखा गया था। मेंटिग सीजन होने के कारण आशंका जताई जा रही है कि दोनों के बीच संघर्ष में मौत हुई है। बाघिन के मृत शरीर में बाघ के पंजों के निशान है।