• Home
  • Mp
  • Jabalpur
  • Vigilance raid against assistance Taresh Kumar Shukla Rewa MadhyaPradesh
--Advertisement--

असिस्टेंट इंजीनियर के घर छापा; 1.25 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति मिली, टीम भी रह गई दंग

जिस तरह वे संपत्ति बना रहे थे, उससे लोगों की नजरों में वे चढ़ गए।

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 06:37 AM IST
तारेश कुमार शुक्ला के खिलाफ सत तारेश कुमार शुक्ला के खिलाफ सत

रीवा(मध्यप्रदेश). आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने की शिकायत पर लोकायुक्त ने उपयंत्री के घर छापा मार कर सवा करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का पता लगाया है। अभी और संपत्ति के खुलासा होने का अनुमान है। कार्यालय संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास रीवा संभाग में उपयंत्री के पद पर पदस्थ तारेश कुमार शुक्ला के विरुद्ध शिकायत पर ये कार्रवाई की गई। लोकायुक्त के 25 सदस्यीय दल ने शुक्रवार सुबह 6.30 बजे उपयंत्री के सतना जिले में स्थित आवास पर दबिश दी। सतना जिले के अमरपाटन अंतर्गत वार्ड क्रमांक 7 के नादन टोला में रहने वाले तारेश कुमार शुक्ला के घर में लोकायुक्त की जांच देर शाम तक जारी रही।

लोकायुक्त टीम के लोग भी रह गए दंग

उपयंत्री के आलीशान भवन को देखकर लोकायुक्त टीम के लोग भी दंग रह गए। इस मकान के निर्माण में 56 लाख रुपए से ज्यादा व्यय किया गया है। कई जमीनों की रजिस्ट्री भी मिली है। ये रजिस्ट्री लगभग साढ़े 32 लाख रुपये की है। बैंक के कई खाते भी मिले हैं। जिसमें 13 लाख से ज्यादा की राशि जमा है। एक इण्डिगो कार व घर में लगभग साढ़े तीन लाख की ज्वेलरी मिली है। गृहस्थी का सामान लगभग 14 लाख रुपये का है। घर से 28540 रुपए नकद मिले। इस तरह यह संपत्ति लगभग 1 करोड़ 37 लाख रुपये की है।

2005 में नियमित हुए थे शुक्ला

उपयंत्री तारेश कुमार शुक्ला ने लगभग दस साल तक संविदा में कार्य किया। 2005 में वे नियमित हुए। जिस तरह वे संपत्ति बना रहे थे, उससे लोगों की नजरों में वे चढ़ गए। लोकायुक्त में आय से अधिक संपत्ति अर्जित किए जाने की शिकायत हुई। गोपनीय जानकारी एकत्रित की गई जिसमें शिकायत सही मिली। प्रकरण दर्ज कर कोर्ट से वारंट प्राप्त कर छापामार कार्यवाही को अंजाम दिया गया।

संपत्ति पर एक नजर

- नादन स्थित आवास- 56 लाख 50 हजार

- विभिन्न प्रापर्टियों की रजिस्ट्री- 32 लाख 50 हजार

- बैंक में जमा राशि- 13 लाख 41 हजार

- वाहन एवं फ्यूल पर खर्च- 13 लाख

- ज्वेलरी- 3 लाख 50 हजार

- गृहस्थी का सामान- 14 लाख 22 हजार नकद- 28 हजार 540 रु.

बैंकों से ली जाएगी जानकारी

लोकायुक्त द्वारा उपयंत्री के जो बैंक खाते मिले हैं, उसमें कब और कितना ट्रांजेक्शन हुआ है, इसकी जानकारी बैंकों से ली जाएगी। लॉकर की जानकारी भी सामने आ रही है। कई दूसरी जगहों पर संपत्ति के बारे में पता लगाया जा रहा है।

लोकायुक्त एसपी संजीव सिन्हा के मुताबिक, उपयंत्री के यहां छापामारी की गई है। अभी तक सवा करोड़ से ज्यादा की संपत्ति सामने आई है। कार्यवाही अभी जारी है।"