--Advertisement--

18000 फीट की ऊंचाई पर हैदराबाद-जबलपुर फ्लाइट में भरा धुआं, बाल-बाल बचे 59 यात्री

हैदराबाद से जबलपुर आ रहे स्पाइस जेट की उड़ान (9111) की नागपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार को आपात लैंडिंग की गई।

Danik Bhaskar | Nov 25, 2017, 08:25 AM IST

जबलपुरनागपुर. हैदराबाद से जबलपुर आ रहे स्पाइस जेट की उड़ान (9111) की नागपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार को आपात लैंडिंग की गई। विमान में 59 यात्री व 4 क्रू मेंबर थे। 18000 फीट की ऊंचाई पर विमान में अचानक धुआं निकलने से यात्री दहशत में आ गए और चीख-पुकार तक शुरू हो गई थी। नागपुर एयरपोर्ट पर विमान के उतरते ही सुरक्षा एजेंसी व दमकल कर्मियों ने यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला। सूखे केमिकल की बौछार कर धुएं पर काबू पाया गया।

- जानकारी के अनुसार, हैदराबाद से जबलपुर जा रहा स्पाइस जेट विमान जब नागपुर के पास से गुजर रहा था, तभी अचानक विमान के भीतर धुआं निकलने लगा। देखते ही देखते दुर्गंध से यात्रियों को सांस लेने में परेशानी होने लगी। आग लगने का डर सताने लगा।

- विमान के चालक दल ने नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग का निर्णय लिया। एटीसी से अनुमति मिलते ही चालक दल ने इमरजेंसी लैंडिंग की। इधर, घटना की सूचना मिलते ही सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गईं थीं। सीआईएसएफ के जवान भी हरकत में आ गए।

- सुरक्षा जवान व दमकल कर्मियों ने रेस्क्यू आपरेशन चलाते हुए यात्रियों को विमान से सुरक्षित बाहर निकाला। स्पाइस जेट की दोपहर 2.22 बजे नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग हुई। किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

परिजनों से लिपटकर बच्चे जोर-जोर से चिल्लाने लगे
- विमान में जब धुआं बढ़ने लगा तो यात्रियों को सांस लेने में परेशानी होने लगी। विशेषकर बच्चों को बहुत परेशानी हुई आैर यात्री मॉस्क मांगने लगे। बच्चे रोने लगे आैर परिजनों को पकड़कर चिल्लाने लगे। विमान में दहशत का माहौल था। आपात स्थिति से निपटने के लिए विमान में आक्सीजन मास्क रहना चाहिए।

- बताया जाता है कि पायलट ने यह भी सोचा था कि विमान को कहीं मैदान या पानी में उतार दिया जाए, और इसी कारण यात्रियों को रक्षा जैकेट पहना दी गईं थीं। धुआं निकलने का कारण तो पता नहीं चला, लेकिन शाटसर्किट होने की चर्चा है।

रात को भरी उड़ान

- बाल-बाल बचे यात्री दिन भर एयरपोर्ट के वेटिंग हॉल में रहे। रात को स्पाइट जेट कंपनी की तरफ से दूसरा विमान नागपुर एयरपोर्ट पहुंचा। इस विमान (1096) ने रात 8.10 बजे जबलपुर के लिए उड़ान भरी, जो रात 8.40 बजे जबलपुर पहुंचा।
- जांच के लिए पहुंचे इंजीनियर | रात को तकनीकी खराबी की जांच के लिए एयरक्राफ्ट मेंटेनंेस के 2 इंजीनियर व एक अन्य इंजीनियर नागपुर एयरपोर्ट पहुंचे। दुर्घटनाग्रस्त विमान को रन-वे पर एक कोने में रखा गया है। जांच के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि धुआं निकलने का कारण क्या था।