--Advertisement--

अपराध / एके-47 चोरी मामले में नया खुलासा, 100 रायफल हुई चोरी, नक्शा देख तोड़ी गई थी वर्कशॉप की दीवार



AK-47 stolen case of ordinance factory jabalpur
X
AK-47 stolen case of ordinance factory jabalpur

  • बिहार में एनआईए कर रही है इस मामले की जांच
  • चोरी के मामले में सीओडी के कर्मचारी ही थे शामिल

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 04:56 PM IST

जबलपुर/मुगेर(बिहार)। सीओडी (सेन्ट्रल आर्डनेंस डिपो) एके-47 चोरी मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपी वर्कशॉप इंचार्ज सुरेश ठाकुर ने पुलिस को बताया है कि एके-47 चुराने के लिए संस्थान का नक्शा देखकर बाउंड्रीवॉल तोड़ी थी। वर्कशॉप की बाउंड्रीवॉल के दूसरी तरफ डामर सड़क मिलती थी, जहां कार से जाकर पेड़ की आड़ में छुपाकर रखी एके-47 निकाल लेता था। पुलिस ने यह जानकारी एनआईए (नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी) तक भेज दी है। बिहार के मुंगेर में इस मामले की जांच कर रही एनआईए की टीम अब जबलपुर आएगा। 

एके-47 चोरी व तस्करी मामले में पुलिस का कहना है कि सीओडी से  2012-18 के बीच आरोपित सुरेश ने किसी साथी की मदद से 100 के लगभग रायफलें चुराईं। सेना के उपयोग से बाहर की गईं एके-47 चुराने के बाद आरोपित सुरेश ने उन्हें दूसरे आरोपित पुरुषोत्तम रजक (ईएमई का सेवानिवृत्त आर्मरर) के हवाले कर दिया।

 

बिहार ले जाकर बेचते थे: इन सभी एके-47 को आरोपित पुरुषोत्तम अपने पंचशील नगर स्थित घर ले गया। जहां पर एके-47 खोलकर मरम्मत व रंग-रोगन करके उन्हें एकदम नया जैसा बना दिया गया। इन एके-47 को आरोपित पुरुषोत्तम अपनी पत्नी चन्द्रवती रजक के साथ बिहार के मुंगेर ले जाकर नक्सलियों, आतंकियों को एक-एक हथियार ढाई से 5 लाख रुपए लेकर बेच दिए। हथियार तस्करी करने में आरोपितों की शीलेन्द्र रजक ने मदद की।

 

30 एके-47 बरामद: मुंगेर पुलिस ने जगह-जगह दबिश देकर करीब 30 एके-47 बरामद की। इन सभी मामलों में पुलिस ने इरफान, शमशेर, नियाजुल हसन और दो अन्य आरोपितों को गिरफ्तार करके पूछताछ करके जेल भेज दिया। बिहार पुलिस के एक दल ने जबलपुर आकर यहां पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ की। इसके बाद जबलपुर पुलिस ने अब बिहार में एके-47 सहित पकड़े गए आरोपितों को प्रोटेक्शन रिमाण्ड पर जबलपुर लाया जाएगा।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..