--Advertisement--

बिहार पुलिस का दावा: जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से चोरी हुई 60 एके-47 नक्सलियों और अपराधियों को की गई सप्लाई

जबलपुर के पर्व कर्मचारी द्वारा बिहार के मुंगेर के हथियार तस्कर को बेची गईं एके-47 रायफल नक्सिलयों तक सप्लाई की जाती थीं

Dainik Bhaskar

Sep 08, 2018, 04:58 PM IST
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिर

जबलपुर/ मुंगेर(बिहार)। मध्य प्रदेश के जबलपुर के पर्व कर्मचारी द्वारा बिहार के मुंगेर के हथियार तस्कर को बेची गईं एके-47 रायफल नक्सिलयों तक सप्लाई की जाती थीं। मुंगेर में अबतक 60 एके-47 को नक्सली और खतरनाक अपराधियों को बेची गई हैं। इसका खुलासा जांच में हुआ है। यह बात तब सामने आई जब 29 अगस्त को जमालपुर थाना क्षेत्र के जुबली वेल चौक पर तीन एके-47 हथियार की बरामदगी करने के साथ ही हथियार तस्कर मो. इमरान को गिरफ्तार किया गया था। उसके बाद एसटीएफ और जिला पुलिस ने मिर्जापुर बरदह गांव में छापेमारी कर 3 एके-47 सहित कई हथियारों को बरामद करने के साथ ही हथियार तस्कर शमशेर आलम उर्फ वीरू और रिजवाना बेगम को गिरफ्तार कर लिया है।

मुंगेर एसपी बाबूराम ने बताया कि जबलपुर पुलिस द्वारा मुंगेर पुलिस को यह जानकारी दी गई कि गिरफ्तार पुरुषोत्तम ने बताया है कि एक बैग शमशेर आलम के पास है। जिसके बाद एसटीएफ और जिला पुलिस ने शमशेर आलम को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ के क्रम में शमशेर ने बताया कि हथियार से भरा बैग उसकी बहन रिजवाना बेगम के पास है। जिसके बाद पुलिस ने रिजवाना बेगम से कड़ी पूछताछ के बाद हथियार को बरामद किया। एसटीएफ व जिला पुलिस द्वारा संयुक्त रुप से छापेमारी के दौरान मिर्जापुर बरदह निवासी रिजवाना बेगम पति खुर्शीद आलम के घर में छापेमारी कर 3 एके-47, 4 मैगजीन, एक क्षतिग्रस्त सिंगल बैरल बंदूक और एक क्षतिग्रस्त डीबीएल बंदूक बरामद की गई हैं। इस मामले में रिजवाना बेगम और स्व. अब्दुल रशीद के पुत्र शमशेर आलम उर्फ वीरू को गिरफ्तार कर लिया गया है।


हथियाराें का स्टॉकिस्ट था शमशेर व इमरान
मुंगेर एसपी ने बताया कि जबलपुर ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से सुरेंद्र ठाकुर हथियार चुराकर पुरुषोत्तम को देता था। फिर पुरुषोत्तम परिवार के साथ मिलकर सभी हथियार को शमशेर और इमरान के हाथों बेच दिया करता था। शमशेर व इमरान एजेंटों के माध्यम से एके-47 को अन्य जिलों व राज्यों में सप्लाई करता था। एसपी ने बताया कि जबलपुर पुलिस द्वारा गिरफ्तार पुरुषोत्तम ने बताया कि अक्सर पत्नी चंद्रवती देवी के साथ ट्रेनों से हथियार लेकर जमालपुर जाया करता था। इसी क्रम में 29 अप्रैल को भी लोकमान्य तिलक एक्सप्रेस से दो बैगों में हथियार लेकर जमालपुर अाया था। जहां मो. इमरान और शमशेर आलम को दोनों बैग दिया था। जबलपुर निवासी पुरुषोत्तम 2008 में सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी है। सेवानिवृत्त होने के बाद पुरुषोत्तम अपनी पत्नी चंद्रवती देवी और बेटा ब्रजेश कुमार के साथ मिलकर एके 47 हथियार का तस्करी करता था।

2012 से ही इमरान और शमशेर धंधे में था शामिल


एसपी ने बताया कि जिले में अब तक 60 एके-47 लाए गए हैं। जिनमें से कुछ एके-47 को नक्सलियों को सप्लाई की गई हैं। लेकिन ज्यादातर एके-47 जिले के अपराधियों को बेची गई हैं। 2012 से ही मो. इमरान और शमशेर आलम अपनी बहन रिजवाना बेगम के साथ मिलकर जिले में एके-47 का कारोबार कर रहे थे। नक्सलियों को एके-47 हथियार तस्करों के द्वारा उपलब्ध कराने के कारण गिरफ्तार सभी तस्करों पर नक्सली की धारा यूपीए एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।


पुरुषाेत्तम की निशानदेही पर गिरफ्तार हुअा शमशेर

जबलपुर में गिरफ्तार पुरुषोत्तम के निशानदेही पर शमशेर आलम को हिरासत में लिया गया था। जिसके बाद बहन रिजवाना बेगम के घर से 3 एके-47 सहित कई क्षतिग्रस्त हथियार बरामद किए गए हैं। अबतक 60 एके-47 को मुंगेर में नक्सलियों व अपराधियों को बेचा गया है। हथियार को किस माध्यम से बेचा गया है, इसकी जांच कर रही है। शमशेर आलम 2009 से हत्या के प्रयास मामले में फरार चल रहा था।

अबतक आठ तस्कर गिरफ्तार

हथियार तस्करी मामले में जहां जिले से मो. इमरान, शमशेर आलम, रिजवाना बेगम सहित एक अन्य तस्कर को किशनगंज पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किया गया है। उधर मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर की पुलिस ने द्वारा पुरुषोत्तम, चंद्रबती देवी, ब्रजेश कुमार और सुरेंद्र ठाकुर को गिरफ्तार किया गया है। जबलपुर में गिरफ्तार सभी हथियार तस्करों को पूछताछ के लिए मुंगेर पुलिस के द्वारा रिमांड पर लिया जाएगा।

X
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिरप्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान गिर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..