• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Jabalpur
  • Chhindwara SDM BJP MLA | Chhindwara SDM, Stops Former BJP MLA Ramesh Dubey Over CAA Citizenship Law During Republic Day 2020

छिंदवाड़ा / एसडीएम ने भाजपा के पूर्व विधायक को सीएए पर बोलने से रोका था, उमा भारती बोलीं- कांग्रेस कार्यकर्ता जैसा बर्ताव कर रहे हैं अफसर

छिंदवाड़ा में भाजपा के पूर्व विधायक को सीएए से बोलने से एसडीएम ने रोका, इस पर विवाद हो गया।
X

  • भाजपा के पूर्व विधायक ने कहा- नागरिकता कानून है और संविधान से जुड़ा है, इस पर बोलने से नहीं रोका जा सकता
  • पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने सरकारी अफसर द्वारा सीएए पर बोलने से रोकने को संविधान की मर्यादा का उल्लंघन बताया

दैनिक भास्कर

Jan 28, 2020, 03:41 PM IST

छिंदवाड़ा. चौरई में गणतंत्र दिवस समारोह में भाजपा के पूर्व विधायक रमेश दुबे को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर बोलने से रोकने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने घटनाक्रम पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी ने कांग्रेस के कार्यकर्ता की तरह बर्ताव किया और संविधान की मर्यादा का उल्लंघन किया। उमा ने कहा- चौरई के पूर्व भाजपा विधायक नागरिकता कानून के बारे में सकारात्मक बातें कह रहे थे, इसके बावजूद उन्हें बोलने से रोका गया।

रविवार को चौरई के स्टेडियम में गणतंत्र दिवस के मौके पर कार्यक्रम में भाजपा के पूर्व विधायक रमेश दुबे समापन भाषण दे रहे थे। इसमें उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून पर बोलना शुरू किया, तभी एसडीएम मेघा शर्मा के कहने पर मुख्य नगर पालिका अधिकारी पूर्व विधायक दुबे के पास पहुंचे और भाषण समाप्त करने के लिए कहा। इस पर पूर्व विधायक ने कहा कि यह कानून केंद्र सरकार ने पारित किया है, यह विषय संविधान से जुड़ा है। इस पर बोलने से मुझे कैसे रोका जा सकता है। इस पर एसडीएम ने कहा था कि ये विवादित विषय है।

चापलूसी की सारी मर्यादाएं पार कर रहे हैं अफसर 
उमा भारती ने कहा कि नागरिकता कानून संसद के दोनों सदनों में पास हो चुका है, ऐसे में कोई सरकारी अधिकारी यदि इसको विवादास्पद विषय मानता है तो वह भी भारतीय संविधान की अवमानना करता है। लगता है मध्य प्रदेश में प्रशासनिक अधिकारी यह भूल गए हैं कि यहां पर कांग्रेस की सरकार है किंतु यहां के सरकारी अधिकारी कांग्रेस के कार्यकर्ता नहीं हैं। चापलूसी की सारी मर्यादाएं पार करते हुए संवैधानिक दायित्व का ही स्मरण न रहना देश और मध्य प्रदेश राज्य के लिए यह घातक होगा।

'ये अधिनियम है, इस पर बोलने से नहीं रोक सकतीं'
पूर्व विधायक दुबे ने मंच से एसडीएम से कहा- यह अधिनियम है मैडम, इस विषय पर बोलने से आप नहीं रोक सकतीं। इस दौरान एसडीएम ने कहा कि आप गणतंत्र दिवस को लेकर बोलें। एसडीएम ने कार्यक्रम को जल्द खत्म करने और कहीं बैठक में जाने की बात कही तो पूर्व विधायक बोले- उन्होंने बैठक में जाने से कहां रोका है। इसके बाद पूर्व विधायक दुबे ने कहा कि मुझे नागरिकता संशोधन कानून पर बोलने से रोकने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने अपना भाषण समाप्त कर दिया और अपनी सीट पर जाकर बैठ गए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना