मप्र / इंसाफ मांगने अधिकारियों के पास गया था किसान, नहीं सुनी तो वहीं खा लिया जहर

तहसील परिसर में किसान को उठाते आमजन। तहसील परिसर में किसान को उठाते आमजन।
X
तहसील परिसर में किसान को उठाते आमजन।तहसील परिसर में किसान को उठाते आमजन।

  • गिरवी जमीन की रजिस्ट्री हो जाने पर अधिकारियों ने नहीं सुनी तो उठाया था कदम, जिला अस्पताल में है भर्ती

दैनिक भास्कर

Oct 06, 2019, 11:44 AM IST

छतरपुर/नौगांव। तहसील परिसर में शनिवार दोपहर ग्राम टीला निवासी किशोरी लाल रैकवार पिता राज जयराम रैकवार उम्र 46 वर्ष ने सल्फास खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां आज भी उसकी हालत आज भी गंभीर बनी हुई है। 

 

किसान ने रूपयों की आवश्यकता पर अपनी 5 बीघा जमीन 5 लाख रूपए में प्रबल यादव, बबलू यादव, गुमंडी यादव पिता कालीचरण को रहन (गिरवी) रखी थी। जब जमीन गिरवी रखी जा रही थी तब दोनों पार्टियों में यह स्पष्ट हो गया था कि जैसे ही उसके पास रूपए आ जाएंगे तो वह अपनी जमीन छुड़ा लेगा और इसी राजीनामा पर बेचनामा लिखा गया था। लेकिन 20 दिन पहले किसान की जमीन की रजिस्ट्री बबलू और गुमंडी ने अपने नाम करा ली। जैसे ही इसकी जानकारी किसान किशोरी को लगी तो वह अपनी कृषि भूमि छुड़ाने के लिए मय ब्याज के रूपए लेकर करीब 10 दिनों से तीनों के पीछे घूम रहा था। लेकिन वह तीनों जमीन वापस नहीं करना चाह रहे थे।


किसान पिछले 6 दिनों से अधिकारियों के चक्कर लगा रहा था, जब कहीं से उसे न्याय नहीं मिला तो जब वह न्याय के आस में तहसील पहुंचा वहां पर एसडीएम तहसीलदार नहीं मिले तो बाजार से सल्फास की डिब्बी लाया तथा तहसील कार्यालय परिसर में गोलियां खा लीं। उसके बेटे ने चिल्लाना शुरू किया तो वहां मौजूद वकीलों व अन्य लोगों ने अस्पताल पहुंचाया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रैफर कर दिया था।


तहसीलदार ने बताया कि मेरे संज्ञान में यह मामला नहीं था, जब किसान ने सल्फास खाया तब पता चला। जांच की जाएगी और दोषियाें पर कार्रवाई होगी। वहीं थाना प्रभारी राकेश साहू का कहना है कि मामले की जांच कर आरोपियों पर धोखाधड़ी एवं मानसिक प्रताड़ना का केस दर्ज किया जाएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना