मप्र / नाबालिग लड़के और बड़े भाई को पुलिस कर्मियों ने थाने के अंदर बेरहमी से पीटा, हालत गंभीर



X

  • नाबालिग लड़की को अश्लील मैसेज भेजने के शक में शिकायत पर पुलिस ने किया ऐसा बर्ताव 

Dainik Bhaskar

Jul 24, 2019, 12:27 PM IST

बीना (प्रमोद सैनी). मोबाइल पर अश्लील मैसेज भेजने के मामले में पुलिस ने एक नाबालिग व उसके बड़े भाई की पुलिस थाने के अंदर बेरहमी से पिटाई की है। पिटाई के दौरान जब नाबालिग की तबियत बिगड़ी तो पुलिस ने उसके बड़े भाई सहित नाबालिग को थाने से बाहर कर दिया। जहां पहले से मौजूद पिता सहित अन्य परिजनों द्वारा नाबालिग को बाइक पर बैठाकर सिविल अस्पताल पहुंचाया। जहां उसका इलाज किया गया लेकिन स्थिति गंभीर होने के कारण उसे सागर रैफर किया गया है। एसडीओपी ध्रुवराज सिंह चौहान ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। यदि मामला सही पाया गया तो संबंधित पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 

 

16 वर्षीय नाबालिग के पिता बलराम सिंह ठाकुर ने बताया कि मंगलवार की शाम करीब साढ़े 5 बजे पुलिस घर आई और छोटे बेटे का नाम लेकर उसके बारे में पूछने लगी। पुलिस कर्मियों से उसके पूछने का कारण पूछा तो उन्होंने कुछ नहीं बताया। बाद में बड़े बेटे विकास ठाकुर को पुलिस साथ लेकर चली गई और उसकी थाने में पिटाई करना शुरू कर दी। उसके बाद पुलिस ने बड़े भाई से मोबाइल पर कॉल कर छोटे भाई को थाने बुलाया। जिसे पिता उसे लेकर थाने आया लेकिन पुलिस ने पिता को बाहर कर दिया। और उसकी भी पिटाई करना शुरू कर दी। 

 

पीड़ित लड़के के पिता ने बताया कि पीएसआई यशपाल सिंह भदौरिया सहित 4 पुलिस कर्मियों ने दोनों बेटों की बेरहमी से पिटाई की और जब छोटे बेटे की स्थिति बिगड़ने लगी तो दोनों को शाम करीब साढ़े 7 बजे थाने के बाहर कर दिया। सूचना मिलने के बाद परिजन थाने पर पहुंचे और घायल नाबालिग को बाइक पर बैठाकर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया।अस्पताल में मौजूद डॉक्टर वीरेंद्र ठाकुर ने घायल का इलाज किया। लेकिन उसकी स्थिति बिगड़ी तो उसे आक्सीजन लगा दी और उसे सागर रैफर किया गया। डॉक्टर ठाकुर ने बताया कि घायल के शरीर पर करीब 10 स्थानों पर चोट के निशान है। 

 

छोटा भाई बीमार है,उसकी जगह हमें मार लो 
बड़े भाई विकास ने बताया कि छोटे बेटे को पुरानी बीमारी है। जिसका इलाज भोपाल में चल रहा है। जब पुलिस ने दोनों बेटों की पिटाई कर रही थी तो हमने पुलिस से कहा कि छोटा भाई बीमार है उसे मत मारो। मारना ही है तो उसके हिस्से का मुझे मार लो। पुलिस फिर नहीं मानी और उसकी पिटाई करती रही। बाद में जब उसकी स्थिति बिगड़ने लगी तो पुलिस ने दोनों को बाहर कर दिया। लेकिन उसे अस्पताल नहीं पहुंचाया। 

 

समाज ने लगाया जाम 
घटना की सूचना मिलने के बाद समाज के लोग सवोर्दय चौक पर एकत्रित हुए और रात करीब 10 बजे पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करना शुरू कर दी । सूचना मिलने पर विधायक महेश राय एवं एसडीओपी सर्वोदय चौराहा पहुंचे। एसडीओपी ने संबंधित पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। उपस्थित लोगों ने सुबह 11 बजे तक का समय दिया है। यदि आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो फिर से आंदोलन किया जाएगा। 

 
क्या था मामला 
नाबालिग के नाम से किसी नाबालिग लड़की को अश्लील मैसेज जा रहे थे। जिसकी शिकायत पर पुलिस नाबालिग को लेने गई हुई थी। इस दौरान नाबालिग ने पुलिस को बताया था कि उसकी सिम उसके दोस्त के पास है जिसका उपयोग वो ही कर रहा है। आप उसको बुलाकर उसके खिलाफ कार्रवाई करें। लेकिन पुलिस ने उसकी एक न सुनी और उसकी पिटाई करती रही। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना