मप्र / गांधी जयंती पर नाटक में गोडसे को संघ के गणवेश में दिखाने पर स्कूल के खिलाफ एनसीआर



जबलपुर के स्कूल में गांधी जयंती पर खेले गए नाटक में गोडसे बने बच्चे को पहनाई आरएसएस की गणवेश। जबलपुर के स्कूल में गांधी जयंती पर खेले गए नाटक में गोडसे बने बच्चे को पहनाई आरएसएस की गणवेश।
आरएसएस के स्वयं सेवकों ने इसके खिलाफ शिकायत की है। आरएसएस के स्वयं सेवकों ने इसके खिलाफ शिकायत की है।
X
जबलपुर के स्कूल में गांधी जयंती पर खेले गए नाटक में गोडसे बने बच्चे को पहनाई आरएसएस की गणवेश।जबलपुर के स्कूल में गांधी जयंती पर खेले गए नाटक में गोडसे बने बच्चे को पहनाई आरएसएस की गणवेश।
आरएसएस के स्वयं सेवकों ने इसके खिलाफ शिकायत की है।आरएसएस के स्वयं सेवकों ने इसके खिलाफ शिकायत की है।

  • आरएसएस के स्वयं सेवक ने थाने में की थी शिकायत, छवि खराब करने का आरोप 

Dainik Bhaskar

Oct 04, 2019, 07:06 PM IST

जबलपुर. मध्यप्रदेश के जबलपुर में एक स्कूल के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को आरएसएस के गणवेश में दिखाने पर जबलपुर के स्कूल के ख़िलाफ एनसीआर ( नॉन कॉग्निजेबल ऑफेंस इन्फार्मेशन रिपोर्ट ) दर्ज कराई गई है। नाटक में नाथूराम गोडसे नामक पात्र को संघ की यूनिफॉर्म में दिखाया गया है। 

 

शुक्रवार को जबलपुर में आरएसएस स्वयंसेवक यतीन्द्र उपाध्याय ने ही स्कूल के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी है। यतेन्द्र ने लॉर्डगंज थाने पहुंचकर एनसीआर दर्ज कराई। सबूत के तौर पर उन्होंने नाटक की एक तस्वीर भी पुलिस को सौंपी है। आरोप है कि इस स्कूल में 2 अक्टूबर के कार्यक्रम में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के पात्र को राष्ट्रीय स्वयं सेव संघ के गणवेश में दिखाया गया। 

 

गोडसे को पहनाई आरएसएस की गणवेश 
जबलपुर के स्मॉल वंडर स्कूल के ख़िलाफ एनसीआर दर्ज करायी गयी है। स्कूल में 2 अक्टूबर गांधी जयंती पर कार्यक्रम हुआ था। आरोप है कि इस दौरान हुए एक नाटक में बापू के हत्यारे नाथूराम गोडसे के पात्र को आरएसएस के स्वयं सेवक की गणवेश में दिखाया गया। गोडसे का पात्र निभाने वाले छात्र को खाकी हाफ पेंट, सफेद शर्ट और सिर पर काली टोपी पहनायी गयी थी। 

 

संगठन की आपत्ति पर एनसीआर दर्ज 

जबलपुर एसपी अमित कुमार ने कहा कि दो अक्टूबर को स्मॉल वंडर स्कूल में एक प्ले किया गया था। इसमें एक बच्चे को महात्मा गांधी और एक बच्चे को गोडसे बनाया गया था। इसमें संगठन विशेष को आपत्ति है कि गोडसे बने बच्चे को जो गणवेश पहनाया गया था, वह संगठन विशेष का है। इससे संगठन की छवि खराब हुई है। ये संज्ञेय अपराध नहीं है, इसमें मानहानि का केस होता है। इस पर कोर्ट से निर्णय लिया जाता है। हमने एनसीआर करके उन्हें कोर्ट जाने को कहा है। माननीय न्यायालय ही इस पर जो फैसला करेगी, वही अंतिम होगा। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना