हादसा / ट्रक ने बस का इंतजार कर रहे दो यात्रियों को टक्कर मारी, घायल; साइकिल सवार बच्चे को ले गया घसीटते, मौत



road accident
X
road accident

  • टीकमगढ़-झांसी मार्ग पर हादसा 
  • परिजनों ने पुलिस पर निकाला गुस्सा 

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 01:52 PM IST

 टीकमगढ़। टीकमगढ़-झांसी मार्ग पर रविवार को रामनगर गांव के पास बस का इंतजार कर रहे दो यात्रियों को टक्कर मार दी। इसके बाद ट्रक साइकल सवार 13 वर्षीय बालक पर चढ़ गया। जिससे मौके पर उसकी मौत हो गई। दो यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने आनन-फानन में क्रेन से ट्रक को उठाकर बोरियों में दबे घायलों को निकाला। बालक की मौत पर अस्पताल में परिजनों ने पुलिस पर आक्रोश बरसाया। समझाइश के बाद बच्चे का पीएम हो सका। 

 

 

दिगौड़ा थाना क्षेत्र के रामनगर गांव के रहने वाले सरमन अहिरवार, फूला उर्फ लक्ष्मी अहिरवार अपने बच्चे को लेकर सड़क किनारे बैठकर मायके जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थी। इन्हीं लोगों के पास गांव के प्रभुदयाल अहिरवार का 13 वर्षीय बालक सतेंद्र अहिरवार साइकल लेकर खड़ा था। इसी दौरान टीकमगढ़ मंडी से गेंहू का ओवरलोड ट्रक झांसी की ओर जा रहा था। रामनगर गांव के पास मेन रोड पर तेज रफ्तार ट्रक अनियंत्रित होकर सड़क पर बैठे सरमन अहिरवार, फूला उर्फ लक्ष्मी अहिरवार और बच्चे के ऊपर से गुजर गया। वहीं साइकल से खड़ा 13 वर्षीय सतेंद्र अहिरवार को घसीटते हुए खेत में जाकर ट्रक पलट गया।


बचाने दौड़े: जिससे सतेंद्र की साइकल चकनाचूर हो गई और ट्रक के नीचे दब गया। घटना के दौरान घायलों की चींख पुकार सुनने ही मौजूद लोग बचाने दौड़े। जिससे ट्रक के नीचे दबे सरमन अहिरवार, फूला उर्फ लक्ष्मी अहिरवार और बच्चे को निकाल लिया, लेकिन सतेंद्र गेंहू की बोरी के बीच दब गया। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची ने क्रेन के सहारे ट्रक को उठाकर बोरियों को हटाया। इसके बाद सतेंद्र को बाहर निकाला। जब तक बच्चे की मौत हो चुकी थी। वहीं गंभीर घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। 


ग्रामीणों ने पकड़ लिया था ड्राइवर को : स्थानीय लोगों ने बताया कि ट्रक चालक और क्लीनर को ग्रामीणों ने पकड़ लिया था। ग्रामीण चालक पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। राहुल विश्वकर्मा नाम का युवक ट्रक चला रहा था। जिसका लाइसेंस पुलिस के हाथ लग गया है। वहीं पुलिस का कहना है कि ट्रक चालक पुलिस के कब्जे में आ गया है। जिस पर कार्रवाई की जाएगी। 


रोते बिलखते परिजन नहीं थे सुनने को तैयार : ट्रक के नीचे दबे सतेंद्र को उठाकर पुलिस अस्पताल लेकर पहुंची। जहां सतेंद्र को डॉक्टरों ने मृत घाेषित कर दिया। जिससे बच्चे का शव पीएम हाउस में रखवा दिया। जब अस्पताल में मृतक के परिजन बच्चे को देखने पहुंचे तो बच्चा नहीं मिला और पुलिस पर आरोप जड़ने लगे। पुलिस परिजनों को समझाने की काेशिश कर रही थी, लेकिन परिजन मानने को तैयार नहीं थे। पीएम हाउस के बाहर परिजन बिलख-बिलख रहे थे। पुलिस ने पंचनामा तैयार कर तुरंत ही बच्चे का पीएम कराकर शव परिजनों के साथ गांव में पहुंचाया। 


ग्रामीण बोरियों को उठाकर ढूंढते रहे घायलों को : गेंहू की बोरियों से भरा ट्रक झांसी की ओर जा रहा था। इसी दौरान हादसा हो गया। ट्रक पलटने से गेंहू की बाेरियां खेत में बिखर गई और नीचे घायलों के दबे होने की आशंका के चलते ग्रामीण एक बाेरी को उठाकर देखते रहे। कि बोरियों के नीचे को घायल अवस्था में कोई दवा तो नहीं है।  

COMMENT