टीकमगढ़ / नसबंदी के दौरान महिला की मौत, परिजनों ने डॉक्टर पर लगाया लापरवाही का आरोप



Woman's death during sterilization
X
Woman's death during sterilization

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 01:40 PM IST

टीकमगढ़। जिला अस्पताल में बुधवार को नसबंदी के दौरान एक महिला की हालत गंभीर हो गई। आनन-फानन में डॉक्टरों ने महिलाओं को झांसी रेफर कर दिया। जहां भर्ती के पहले ही महिला को मृत बताया। रात में 9 बजे महिला का शव झांसी से जिला अस्पताल पहुंचा। परिजनों इस मामले में डॉक्टर पर कार्रवाई की मांग कर रहे है। पुलिस ने मामला जांच में ले लिया। वहीं इस मामले में सीएमएचओ वर्षा राय का कहना है इस मामले की जांच के लिए टीम गठित की गई है। 

 


अस्पताल में नसबंदी शिविर लगाया गया था। डॉक्टर आरएस दंडौतिया द्वारा महिलाओं के नसबंदी के ऑपरेशन किए जा रहे थे। जिसमें 29 महिलाओं के ऑपरेशन किए गए। आखरी केस में समर्रा निवासी मालती पति राजन लोधी उम्र 30 का ऑपरेशन किया जा रहा था। दोपहर तीन बजे के लगभग महिला की ऑपरेशन के दौरान हालत बिगड़ गई। 


आनन-फानन में बेहोशी की हालत में महिला को रेफर कर दिया गया। परिजन उसे झांसी लेकर पहुंचे। जहां भर्ती होने से पहले ही महिला को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मौत की खबर सुनते ही परिजनों को झटका लग गया। रात 9 बजे महिला का शव टीकमगढ़ जिला अस्पताल पहुंचा। मृतिका की सास सावित्री लोधी ने बताया कि डॉक्टर दंडौतिया द्वारा आपरेशन किया जा रहा था और जिला अस्पताल में ही महिला की मौत हुई है। जबरजस्ती झांसी रेफर किया गया। मृतिका के परिजनों ने डॉक्टर की शिकायत पुलिस से की है।

 

 
जांच टीम गठित, होगी कार्रवाई : नसबंदी शिविर में आपरेशन के दौरान महिला की मौत के मामले में परिजनों ने डॉक्टर पर आरोप लगाया है। जिस पर सीएमएचओ वर्षा राय ने नसबंदी के दौरान हुई मौत के मामले में जांच टीम गठित की है। टीम द्वारा जांच में अगर डॉक्टर की लापरवाही सामने आती है तो संबंधित डॉक्टर पर कार्रवाई करने की बात कही। 

 

 

दो बच्चे होने के बाद नसबंदी आपरेशन करवाने आई महिला : मृतिका मालती लोधी का एक लड़का और एक लड़की है। दो बच्चे होने के बाद वह अपने परिजनों के साथ जिला अस्पताल में नसबंदी ऑपरेशन करवाने आई थी। ऑपरेशन के दौरान महिला की हालत बिगड़ गई। जिससे डॉक्टरों ने झांसी रेफर कर दिया। जहां इलाज से पहले ही महिला की मौत हो गई। 

COMMENT