जावरा

--Advertisement--

एक दिन में 32 हजार से ज्यादा असंगठित श्रमिकों का पंजीयन

जिले में पहले दिन रविवार को 32 हजार 379 असंगठित श्रमिकों का पंजीयन किया गया। जिला श्रम विभाग की जानकारी के अनुसार...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:30 AM IST
जिले में पहले दिन रविवार को 32 हजार 379 असंगठित श्रमिकों का पंजीयन किया गया। जिला श्रम विभाग की जानकारी के अनुसार पंजीयन 7 अप्रैल तक किया जाएगा।

रविवार को जनपद पंचायत सैलाना में सर्वाधिक 13 हजार 800 श्रमिक पंजीकृत किए गए। जनपद रतलाम में 7439, जनपद आलोट में 4560, जनपद बाजना में 2231, जनपद जावरा में 2003, जनपद पिपलौदा में 1288, जनपद आलोट में 142, नगर परिषद ताल में 160, नगर परिषद सैलाना में 377, नगर निगम रतलाम में 88, नगर परिषद नामली में 75, नगर परिषद पिपलौदा में 80, नगर परिषद धामनोद में 48, नगर परिषद जावरा में 123 तथा नगर परिषद बड़ावदा में 18 श्रमिक पंजीयन हुए। जिले में इसके पूर्व से भी श्रमिक पंजीयन किया जा रहा था। पूर्व में 27 मार्च से लेकर 31 मार्च तक 17 हजार 614 श्रमिक पंजीकृत किए जा चुके हैं। इसे मिलाकर 49 हजार 993 श्रमिक पंजीकृत किए जा चुके हैं। जिले में 2 लाख 99 हजार श्रमिकों के पंजीयन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

यह मिलेगा लाभ

पंजीकृत असंगठित श्रमिकों को 200 रुपए मासिक फ्लैट रेट पर बिजली, गर्भवती श्रमिक महिलाओं को पोषण आहार के लिए 4 हजार, प्रसव होने पर महिला के खाते में 12 हजार 500 रुपए जमा होंगे। घर के मुखिया श्रमिक की सामान्य मृत्यु पर परिवार को दो लाख तथा दुर्घटना में मृत्यु पर 4 लाख की सहायता मिलेगी। हर भूमिहीन श्रमिक को भूखंड या मकान, स्वरोजगार के लिए ऋण, साइकिल-रिक्शा चलाने वालों को ई-रिक्शा और हाथठेला चलाने वालों को ई-लोडर का मालिक बनाने की पहल की जाएगी। बैंक ऋण की सुविधा (5 प्रतिशत ब्याज अनुदान के साथ 30 हजार की सब्सिडी), श्रमिक को अंतिम संस्कार के लिए निकाय से 5 हजार की नकद सहायता दी जाएगी।

X
Click to listen..