जावरा

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Jaora
  • नेता-अफसर कुछ नहीं कर पाए, अब लोग ही ऊबड़-खाबड़ मार्ग ठीक करेंगे
--Advertisement--

नेता-अफसर कुछ नहीं कर पाए, अब लोग ही ऊबड़-खाबड़ मार्ग ठीक करेंगे

रविवार सुबह 11.40 बजे मालगाड़ी निकालने के लिए सिटी-चौपाटी रोड की रेलवे फाटक बंद हुई। मालगाड़ी निकालने के बाद फाटक खुलना...

Danik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:35 AM IST
रविवार सुबह 11.40 बजे मालगाड़ी निकालने के लिए सिटी-चौपाटी रोड की रेलवे फाटक बंद हुई। मालगाड़ी निकालने के बाद फाटक खुलना थी लेकिन एक और मालगाड़ी निकालने के चक्कर में दोपहर 12.05 तक बंद रखा। दूसरी गाड़ी लेट हो गई और लोग विरोध करने लगे तब थोड़ी देर के लिए फाटक खोली। फिर 5 मिनट बाद दूसरी गाड़ी आने से फिर बंद कर दी। आधे घंटे से अधिक फाटक बंद होने से लोग धूप में खड़े-खड़े परेशान हो गए। 12.40 बजे फिर 20 मिनट तक जाम लगा। यह परेशानी रोज की है लेकिन गर्मी के दिनों असहनीय बनती जा रही है।

फाटक की जगह ब्रिज निर्माण की तैयारी चल रही है लेकिन प्रशासनिक प्रक्रिया से गुजरने और कागजी कार्रवाई पूरी होने में समय लगेगा। निर्माण शुरू हो गया तो बनकर तैयार होने में साल-डेढ़-साल लग जाएगा। तब तक फाटक की समस्या का अस्थायी समाधान वैकल्पिक रोड है। जेल के पीछे रेलवे पुलिया के नीचे होकर चूरूवाला दालमिल और विवेकानंद कॉलोनी तरफ जो कच्चा रास्ता जा रहा है, वह वैकल्पिक रोड के लिए प्रस्तावित है। नगरपालिका को अनुमति का इंतजार है जो दिलाने की किसी की बिसात नजर नहीं आ रही। ऐसे में प्रशासन वहां रोड बना दे यह उम्मीद अब खत्म हो रही है। आमलोग ही इस उबड़-खाबड़ हो रहे वैकल्पिक मार्ग को श्रमदान के जरिए ठीक करने की तैयारी कर रहे हैं।



रविवार दोपहर 12 बजे फाटक पर आधे घंटे तक जाम लगने से लोग धूप में परेशान होते रहे।

यह कच्चा रास्ता है, जिसके आसपास झाड़ियां व रास्ते में गड्ढे हैं।

झाड़ियां कटवा देंगे, गड्ढे भर देंगे, बाइक निकल सकेगी

समाजसेवी शिवेंद्र माथुर का कहना है गैर राजनीतिक स्तर पर युवाओं की टीम लेकर वैकल्पिक रास्ते की परेशानी दूर करेंगे। इस रूट में जो कटीली झाडिय़ां हैं, उनकी छंटनी करवा देंगे और रास्ते में पड़े गड्ढों को समतल करेंगे ताकि फाटक बंद होने की स्थिति में बाइक सवार व अन्य छोटे वाहन इधर से निकल सकें। प्रस्फुटन समिति के सदस्य श्रमदान के लिए तैयार है। यदि आमजन को भी रोका जाता है तो भी तस्वीर साफ हो जाएगी कि नेता-अफसर ना खुद काम करना चाहते हैं और ना किसी को करने देंगे। रणजीत यादव ने बताया यादव युवा संगठन वैकल्पिक रोड की झाड़ियां कटवाकर उसे समतल करने को तैयार है। नया रोड नहीं बना रहे। निजी उपयोग नहीं हो रहा। इसलिए प्रशासन के सहयोग से रास्ता ठीक करेंगे। सोमवार से काम की शुरुआत करेंगे।

सोशल मीडिया पर भड़ास, एप की तैयारी लेकिन परमिशन नहीं मिल रही

नगर में कई सामाजिक व अन्य संगठन है लेकिन वे इस विकराल समस्या के लिए इसलिए नहीं बोल रहे क्योंकि जो बोलता है उसकी आवाज नेताओं के हितैषियों द्वारा दबा दी जाती है। अथवा उन्हें टीका-टिप्पणी करके इतना परेशान कर देते हैं कि वे परेशानी झेलना ज्यादा पसंद करते हैं। ऐसे में आमजन, जिसके हाथ में कुछ नहीं है वे फाटक की समस्या को लेकर रोज सोशल मीडिया पर अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। व्यवसायी कुशल पटवा का कहना है हमने कुछ सॉफ्टवेयर इंजीनियर से बात की है। वे ऐसा एप बनाने को तैयार है जो फाटक बंद होने की सूचना देगा लेकिन इसके लिए एक सेंसर फाटक क्षेत्र में लगाना पड़ेगा। इसकी पैनल प्लेट किसी रूम में लगाना पड़ेगी, लेकिन हो सकता है इसमें भी परमिशन का अड़ंगा लग जाए। इसलिए अंतिम निर्णय होना है। यह नहीं भी हुआ तो हम युवाओं की टीम लेकर वैकल्पिक मार्ग व ब्रिज के लिए अभियान चलाएंगे।

Click to listen..