Hindi News »Madhya Pradesh »Jaora» बरबड़ मेले में अंतिम दिन दर्शन के लिए कतार में करना पड़ा 20 से 30 मिनट तक इंतजार

बरबड़ मेले में अंतिम दिन दर्शन के लिए कतार में करना पड़ा 20 से 30 मिनट तक इंतजार

चैत्र सुदी पूर्णिमा शनिवार को मारुतिनंदन हनुमान का जन्मोत्सव शहर के मंदिरों में मनाया गया। सबसे ज्यादा भीड़ बरबड़...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 05:20 AM IST

चैत्र सुदी पूर्णिमा शनिवार को मारुतिनंदन हनुमान का जन्मोत्सव शहर के मंदिरों में मनाया गया। सबसे ज्यादा भीड़ बरबड़ हनुमान मंदिर व मेहंदीकुई बालाजी मंदिर में रही। बरबड़ हनुमान मंदिर में शाम को लाइन में लगने के 20 से 30 मिनट बाद अंजनी नंदन के दर्शन हो सके।

बरबड़ हनुमान मंदिर में तीन दिनी मेले का समापन शनिवार को हुआ। मंदिर में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला सुबह 5 बजे से शुरू हो गया था जो देर रात तक चला। सबसे ज्यादा भीड़ शाम 7.30 से 9.30 बजे तक रही।श्रद्धालुओं के स्वागत के लिए हनुमान भक्तों ने श्री राम मंदिर से बरबड़ हनुमान मंदिर तक 40 से ज्यादा स्टालें लगाई थी। इनसे निशुल्क तरबूज, छाछ, खिचड़ी, शरबत आदि का वितरण किया। श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए सैलाना बस स्टैंड व बंजली से ही बड़े वाहनों का प्रवेश रोक दिया था। वाहनों की भीड़ को देखते हुए दूर से आने वाले लोगों ने अलकापुरी या आसपास परिचितों के यहां वाहन खड़े कर पैदल ही बरबड़ हनुमान मंदिर पहुंचने का विकल्प चुना।

मेहंदी कुई बालाजी मंदिर में हुई यज्ञ की पूर्णाहुति- श्री मेहंदी कुई बालाजी मंदिर में हनुमान जन्मोत्सव मनाया गया। मंदिर में निर्माण कार्य होने के कारण प्रतिमा को पास ही परिसर में विराजित किया है। मंदिर में शनिवार को श्री मेहंदी कुई बालाजी जनकल्याण न्यास एवं नवयुवक मंडल के तत्वावधान में आयोजित यज्ञ की पूर्णाहुति की गई। इस दौरान मंदिर से शोभायात्रा भी निकाली गई। दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। हनुमान जयंती पर बालाजी महाराज का आकर्षक श्रृंगार किया गया था।

रणजीत हनुमान मंदिर में हुई महाआरती तो कपीश्वर हनुमान का हुआ तेलांग अभिषेक- प्रकाश नगर स्थित श्रीराम रणजीत हनुमान मंदिर में सुबह 6 बजे आरती, सुबह 9 बजे हवन व इसके बाद भंडारा व भजन-कीर्तन का आयोजन किया गया। श्री राम भक्त मंडल ने जवाहर नगर स्थित श्री रणजीत हनुमान मंदिर में सुबह 9 बजे महा-हवन किया। शाम 4 बजे सुंदरकांड के बाद महाआरती हुई। र|ेश्वर रोड स्थित श्रीबाग हनुमान मंदिर में 45वां महाविष्णु यज्ञ की पूर्णाहुति की गई। इसके बाद महाआरती व महाप्रसादी का आयोजन हुआ। मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी स्थित क्षेत्रीय भंडार प्रांगण में शिव मंदिर में विराजित कपिश्वर हनुमान जी का जन्मोत्सव मनाया। मंदिर में शनिवार को सुबह 7.30 बजे तेलांग अभिषेक, हवन व इसके बाद आरती कर प्रसादी का वितरण किया गया।

मेले के अंतिम दिन कई लोग परिवार के साथ पहुंचे। इनसेट : बरबड़ हनुमानजी की श्रृंगारित प्रतिमा।

हनुमान जयंती पर मंदिरों में हुए आयोजन

नामली | हनुमान जयंती पर्व पर नामली नगर के स्टेशन रोड़ स्थित मेहंदीपुर बालाजी मंदिर, द्वारकाधीश मंदिर, चारभुजा मंदिर, हनुमान मंदिर जावरा रोड, बाग वाला कुआं स्थित खेड़ापति हनुमान मंदिर आदि स्थानों पर भगवान हनुमान की प्रतिमा पर चोला चढ़ाकर विशेष श्रृंगार किया गया। मंदिरों पर आकर्षण विद्युत- पुष्प सज्जा और रंगोली बनाई। मंदिरों पर शाम को महाआरती का आयोजन किया गया। नगरवासियों ने बड़ी संख्या में आरती में भाग लेकर हनुमान जी के दर्शन किए।

हनुमान मंदिरों पर भंडारा व आरती

धराड़। हनुमान जयंती पर गांव में धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। गांव के हनुमान मंदिर पर महायज्ञ व महाआरती कर प्रसाद वितरण किया गया। सगस बाऊजी मंदिर में सूर्यमुखी हनुमान मंदिर पर अखंड रामायण पाठ का आयोजन हुआ। बस स्टैंड स्थित हनुमान मंदिर पर महाआरती का आयोजन किया गया। बड़ी संख्या में ग्रामीणजन व श्रद्धालु शामिल हुए। रमोला हनुमान मंदिर पर भी महाआरती का आयोजन किया गया।

महाआरती के साथ भंडारा भी हुआ

बाजना | हनुमान जयंती पर कुशलगढ़ रोड स्थित बालाजी हनुमान मंदिर पर शनिवार को भंडारे हुआ। पंडित ओम प्रकाश शर्मा के अनुसार मंदिर में सुबह से भक्तों कतार लगना शुरू हो गई थी। शनिवार शाम महाआरती की। शुक्रवार रात मंदिर में भजन संध्या में गायक अमर पंजाबी ने सुमधुर भजनों की प्रस्तुति देकर समा बांधा। मंदिर समिति अध्यक्ष महावीर शर्मा ने बताया कि प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष के आयोजन में श्रद्धालुओं की सराहनीय भूमिका रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaora

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×