• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Jaora
  • जहां बेटियों का सम्मान होता है वह जगह तीर्थ के समान है
--Advertisement--

जहां बेटियों का सम्मान होता है वह जगह तीर्थ के समान है

जावरा | आज के युग में बेटियों की गर्भ में ही हत्या की जा रही है। नारी के सम्मान में कमी हो रही है। जितना महत्व हम...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:10 AM IST
जावरा | आज के युग में बेटियों की गर्भ में ही हत्या की जा रही है। नारी के सम्मान में कमी हो रही है। जितना महत्व हम बेटों को देते हैं, उतना ही बेटियों को भी देना होगा। बेटियां रानी लक्ष्मीबाई हैं और दुर्गा भी। जहां उनका सम्मान होता है वो स्थान तीर्थ है।

यह बात साध्वी जयमाला वैष्णव ने गीताभवन में अभा स्वर्णकार समाज विकास शोध संस्थान द्वारा आयोजित सात दिवसीय भागवत कथा के विश्राम पर कही। कथा के दौरान श्रीकृष्ण-सुदामा की मित्रता पर आधारित नाटक मंचन हुआ। कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों से लोगों को भाव-विभोर किया। संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष एमके राजपूत, एमपी राजपूत, आरपी वर्मा, भारती वर्मा, रेखा सोनी, हुकुम सोनी, नपाध्यक्ष अनिल दसेड़ा, सुमन मेहता, विद्या कांठेड़ आदि ने भागवत पूजन व आरती की। राष्ट्रीय अध्यक्ष राजपूत, प्रदेशाध्यक्ष सोनी का अभिनंदन पत्र भेंटकर सम्मान किया। मौके पर रोहित सोनी, अनिल सोनी, वासुदेव सोनी, बबलू सोनी, मांगीलाल सोनी, भेरूलाल सोनी आदि मौजूद थे।

श्रीकृष्ण-सुदामा की मित्रता पर आधारित प्रस्तुति देते कलाकार।