Hindi News »Madhya Pradesh »Jaora» रेलवे ब्रिज का स्थान बदलने के संकेत, मुख्य अभियंता से जाकर मिले विधायक पांडेय , लोग भी मैदान में आए

रेलवे ब्रिज का स्थान बदलने के संकेत, मुख्य अभियंता से जाकर मिले विधायक पांडेय , लोग भी मैदान में आए

रेलवे फाटक के पास 100 मीटर के दायरे में ही ओवर तथा अंडरब्रिज दोनों निर्माण से कई कॉलोनियों की कनेक्टिविटी प्रभावित...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 07:15 AM IST

रेलवे ब्रिज का स्थान बदलने के संकेत, मुख्य अभियंता से जाकर मिले विधायक पांडेय , लोग भी मैदान में आए
रेलवे फाटक के पास 100 मीटर के दायरे में ही ओवर तथा अंडरब्रिज दोनों निर्माण से कई कॉलोनियों की कनेक्टिविटी प्रभावित होगी। एक ही स्थान पर दोनों निर्माण से शहर को अतिरिक्त कनेक्टिविटी भी नहीं मिलेगी। पहले जनप्रतिनिधियों ने स्थान चयन को तकनीकी बिंदु बताते हुए अधिकारियों के भरोसे छोड़ दिया था। भास्कर ने मुद्दे को प्रमुखता से उठाया। विधायक ने सही स्थान के प्रयास शुरू कर दिए। बुधवार को वे भोपाल में पीडब्ल्यूडी के मुख्य अभियंता अखिलेश अग्रवाल से मिले। होली के बाद संयुक्त ड्राइंग बनाने वाले सेतु एवं रेलवे अधिकारियों से मिलने जाएंगे। इधर स्थान परिवर्तन की मांग को लेकर रहवासी मैदान में आ गए हैं। बुधवार को ज्ञापन भी दिया। ऐसे में स्थान बदलने के संकेत मिल रहे हैं।

दोनों ब्रिज के स्थान बदलने की रहवासियों की मांग को इसलिए भी बल मिल रहा है क्योंकि रेलवे अधिकारियों ने पहले अंडरब्रिज निर्माण की शर्त रख दी और इधर ओवरब्रिज के ठेकेदार ने काम करने से मना कर दिया तो रि-टेंडर की स्थिति निर्मित हो गई है। दरअसल ओवरब्रिज का स्थान बदलने की बात पर सेतु निगम अधिकारी इस बात की आड़ ले रहे थे कि टेंडर हो चुके हैं और अब स्थान बदलेंगे तो नए सिरे से नए स्थान की टीएस (तकनीकी) लेना पड़ेगी और नई टीएस होने के बाद टेंडर भी नए सिरे से करना पड़ेंगे। इससे प्रोजेक्ट अनावश्यक लेट होगा। अब चूंकि ओवरब्रिज के कांट्रेक्टर ने खुद ही कह दिया कि निर्माण सामग्री की दरें बढ़ने से हम काम नहीं करेंगे। इसलिए विभाग को नए सिरे से टेंडर करना पड़ेंगे। यानी जब टेंडर नए सिरे से करना ही है तो स्थान बदलने के बाद भी किए जा सकते हैं। इधर रेलवे ने पहले अंडरब्रिज और फिर ओवरब्रिज निर्माण की शर्त रख दी है। यदि रेलवे के मापदंड अनुसार काम हुआ तो पहले अंडरब्रिज ही बनेगा लेकिन इसके एप्रोच रोड के लिए अभी सेतु निगम के पास बजट नहीं है। अंडरब्रिज से पहले इसका प्रोजेक्ट राज्य सरकार से वित्तीय स्वीकृति लेना होगी। इसमें महीनाभर लग ही जाएगा। इससे सेतु निगम की वह आड़ भी खत्म हो गई कि प्रोजेक्ट लेट होगा, क्योंकि जबतक अंडरब्रिज की तकनीकी व वित्तीय स्वीकृति मिलेगी और निर्माण पूरा होगा, तब तक ओवरब्रिज के स्थान बदलने व नए टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी हो जाएगी। इसलिए स्थान बदलने के संकेत मिले हैं। अब केवल जनप्रतिनिधि स्तर पर लगातार प्रयास हो जाए तो स्थान बदल जाएंगे और विधानसभा चुनाव से पहले दोनों ब्रिज का एक साथ निर्माण कार्य भी शुरू हो जाएगा।

विधायक ने मुख्य अभियंता को बताइ वस्तुस्थिति, बाेले - हल जरूर निकलेगा

तहसीलदार राकेश सस्तिया को ज्ञापन देते हुए रहवासी व संस्था सदस्य।

एक जगह दो ब्रिज से अनावश्यक पैसा खर्च होगा, लोग भी परेशान

फाटक क्षेत्र के रहवासियों, ब्रिज सही बनाओ समिति व भारतीय भ्रष्टाचार निवारण संस्था ने तहसीलदार राकेश सस्तिया को ज्ञापन दिया। इसमें कहा कि एक ही जगह दो ब्रिज बनने से नई कनेक्टिविटी नहीं मिलेगी। अनावश्यक पैसा खर्च होगा और जनता को भी परेशान होना पड़ेगा। इसलिए सही स्थान का चयन करें और दोनों ब्रिज बनाए। रेलवे ने अंडरब्रिज को फाटक वाली जगह उचित बताया है तो यहीं बनाए। ओवरब्रिज को जेल के पीछे या शुगरमिल जहां उपयुक्त हो बना दें। मुकेश राठौर, एडवोकेट रशीद बुखारी, संजय भाटी, सुनील जैन, लखन राठौर, राहुल सैन, श्याम शर्मा, इकबाल खान, श्रीपाल दसेड़ा, कृष्णा जोशी आदि मौजूद थे।

विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय ने बताया पीडब्ल्यूडी मुख्य अभियंता अखिलेश अग्रवाल से मिला। वस्तुस्थिति बता दी कि 100 मीटर दायरे में दोनों ब्रिज बनने से कनेक्टिविटी प्रभावित होगी। चूंकि वे पहले फाटक व जेल के पीछे की जगह का निरीक्षण कर चुके हैं। इसलिए उन्हें दोनों जगह में से जहां उचित हो, वह निर्णय लेने की बात कही है। रतलाम जाकर सेतु व रेलवे अधिकारियों से मिलेंगे। फाटक क्षेत्र के प्रभावितों ने जो समस्या बताई, उन बिंदुओं पर चर्चा करेंगे। मैं शुरू से दोनों ब्रिज के लिए प्रयासरत हूं। स्थान को लेकर जन भावना के साथ हूं। मुख्य अभियंता से नए टेंडर जल्दी करने के लिए भी चर्चा हो चुकी है। यही प्रयास है कि दोनों ब्रिज का काम साथ-साथ शुरू हो जाए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jaora

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×