• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Jhabua News
  • Jhabua - गौड़ी पार्श्वनाथ तीर्थ पर साध्वीश्री की निश्रा में दोपहर में लगाई सपनाजी की बोली, शाम को वरघोड़ा निकला
--Advertisement--

गौड़ी पार्श्वनाथ तीर्थ पर साध्वीश्री की निश्रा में दोपहर में लगाई सपनाजी की बोली, शाम को वरघोड़ा निकला

स्थानीय श्री गौड़ी पार्श्वनाथ तीर्थ पर मंगलवार को साध्वीश्री पुनीतप्रज्ञाश्रीजी व प्रमोदयशाश्रीजी आदिठाणा-5 की...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 03:51 AM IST
स्थानीय श्री गौड़ी पार्श्वनाथ तीर्थ पर मंगलवार को साध्वीश्री पुनीतप्रज्ञाश्रीजी व प्रमोदयशाश्रीजी आदिठाणा-5 की निश्रा में भगवान महावीर का जन्म कल्याणक महोत्सव मनाया गया। दोपहर में साध्वीश्री की निश्रा में माता त्रिशला द्वारा देखे गए स्वप्नों की बोली लगाई गई। जिसमें श्री संघ के सदस्यों ने बढ़चढ़कर भाग लिया। साध्वीश्री ने सभी तीर्थंकर प्रभु के जन्म की घोषणा थाली बजाकर की। इस दौरान पूरा पांडाल तालियों और जयकारों से गूंज उठा। सभी सदस्यों ने पालना झुलाकर और नारियल की प्रसादी खिलाकर प्रभु को चांदी की पालकी में विराजित किया। महिलाएं सपनाजी को सिर पर लेकर चल रही थी। इसके बाद वरघोड़ा शुरू हुआ। सभी सदस्य केसरिया छापा लगाकर इसमें शामिल हुए। रास्ते में जगह-जगह भगवान के सम्मुख अक्षत से गहुली की गई। वरघोड़ा गौड़ीजी से शुरू होकर राजगढ़ नाका होते हुए पुन: मंदिर पहुंचा। जहां मूल मंदिर में 108 दीपक से मूलनायक श्री गौड़ीजी की, श्री शांतिनाथ भगवान, श्री महावीर स्वामी, श्री गौतम स्वामी, मणिभद्र दादा श्री राजेंद्रसूरीजी, तीर्थेंद्रसूरीजी, आचार्यश्री लब्धिचंद्रसूरीजी एवं श्री नाकोड़ा भैरव की आरती की गई। कार्यक्रम को श्रीसंघ एवं आचार्यश्री तीर्थेंद्रसूरी समिति की ओर से संजय कांठी द्वारा संचालित किया गया। आयोजन को सफल बनाने में निर्मल मेहता, मधुकर शाह, सुरेश कांठी, मनोज खाबिया, अशोक राठौर, जयेश कांठी, सौरभ संघवी का सहयोग रहा। आभार अनिल राठौर, राजमल राठौर, तेजप्रकाश कोठारी ने माना।

झाबुआ. यात्रा में आगे-आगे चांदी की चांदी की पालकी उठाकर चल रहे थे लाभर्थी।