• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Jhabua
  • मप्र में चार नए पुरातत्व संग्रहालय खुलेंगे, केंद्र को प्रस्ताव भेजा
--Advertisement--

मप्र में चार नए पुरातत्व संग्रहालय खुलेंगे, केंद्र को प्रस्ताव भेजा

गंर्धवपुरी में पुरातत्व विभाग का जीर्ण-शीर्ण संग्रहालय है। मंजूरी मिलने के बाद मूर्तियों के लिए प्लेटफॉर्म, शेड...

Dainik Bhaskar

Aug 07, 2018, 02:45 AM IST
मप्र में चार नए पुरातत्व संग्रहालय खुलेंगे, केंद्र को प्रस्ताव भेजा
गंर्धवपुरी में पुरातत्व विभाग का जीर्ण-शीर्ण संग्रहालय है। मंजूरी मिलने के बाद मूर्तियों के लिए प्लेटफॉर्म, शेड बनाया जाएगा। संग्रहालय की सुरक्षा के लिए आस-पास की दीवार को बनाया जाएगा।


राजेश रावत | इंदौर/धार /देवास/झाबुआ

मध्यप्रदेश की प्राचीन धरोहरों को सहेजने और पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के लिए मप्र पुरातत्व,अभिलेखागार और संग्रहालय विभाग ने राज्य में चार नए संग्रहालय खोलने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है। इसमें गुना, नीमच नरसिंहपुर,हरदा जिले शामिल हैं। संचनालय ने जमीन कहां से आएगी। इन्हें खोलने पर कितना खर्च आएगा और किन प्राचीन धरोहरों को यहां रखा जाएगा। इसकी रूपरेखा बनाकर केंद्र सरकार को भेजी थी। केंद्र ने उस योजना को लेकर कुछ जानकारी मांगी है। अगर केंद्र सरकार को राज्य सरकार सभी जानकारियां देकर संतुष्ट कर पाया तो चारों जिलों में नए संग्रहालयों को मंजूरी मिल जाएगी। पुरातत्व अभिलेखागार , संग्रहालय भोपाल की उप संचालक गीता सभरवाल के मुताबिक केंद्र सरकार को इन 4 जिलों में संग्रहालय खोलने के लिए प्रस्ताव भेजा था। मंजूरी मिलने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

प्रदेश में पर्यटकों को राज्य के सभी संग्रहालय में लाने की योजना पर काम शुरू

गंर्धवपुरी संग्रहालय देवास जिले के इस संग्रहालय को मिलेगा एक नया लुक

250 से ज्यादा पाषाण प्रतिमा हैं।

30 लाख खर्च करने का प्रस्ताव विभाग ने भेजा है।

देवलफलिया : झाबुआ में शिव मंदिर देवलफलिया को संवारने की कोशिश

12 महीने प्राकृतिक रूप से मिलता है पानी

30 लाख खर्च करने का प्रस्ताव भेजा गया है।

देवलफलिया (राणापुर) के शिव मंदिर के विकास कन्जर्वेशन पर 30 लाख रुपए खर्च होगा। ताकि इसका नेचुरल लुक बना रहे। यहां प्राकृतिक रूप से पानी निकलता है। जो आसपास के ग्रामीणों को साल भर मिलता है।

धार नरेश की छतरियां : प्लिन्थ वर्क और प्रोटेक्शन का काम भी होगा

03 माह में नया रूप दिया जाएगा

45 लाख छतरियों और मंदिर के विकास पर खर्च किया जाएगा।

धार नरेश की छतरियों के डेमेज हो चुके भाग की मरम्मत 30 लाख से होगी। प्लिन्थ वर्क, प्रोटेक्शन का काम होगा। जामली मंदिर, मांडू में महल के विकास और संरक्षण पर 15 लाख खर्च होंगे।

मंदसौर-नीमच की धरोहरों को भी संवारेंगे

नीमच में शिव मंदिर के विकास के लिए 30 हजार खर्च किए गए हैं। वहीं नीमच के शिव मंदिर क्रमांक 2 बरूखेड़ा के संरक्षण के लिए 9 लाख रुपए खर्च करने की योजना बनाई गई है। इसी जिले में इसी तरह से भड़भडिया किले के विकास की योजना बनाई गई है। यहां 24 लाख खर्च होंगे। पर्यटकों के लिए पाथवे और कुर्सियां भी लगाई जाएगी।

X
मप्र में चार नए पुरातत्व संग्रहालय खुलेंगे, केंद्र को प्रस्ताव भेजा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..