Hindi News »Madhya Pradesh »Jhabua» मंडी प्रशासन युवाओं को सिखाएगा उपज खरीदकर रु. कमाना

मंडी प्रशासन युवाओं को सिखाएगा उपज खरीदकर रु. कमाना

मंडी में बढ़ते कारोबार और व्यापारियों की कमी देखते हुए मंडी बोर्ड युवाओं को व्यापारी बनाएगा। इसके लिए उन्हें...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 06, 2018, 03:00 AM IST

मंडी में बढ़ते कारोबार और व्यापारियों की कमी देखते हुए मंडी बोर्ड युवाओं को व्यापारी बनाएगा। इसके लिए उन्हें ट्रेनिंग देगा और फिर लाइसेंस देगा ताकि वे मंडी में खरीदी शुरू कर सके। युवाओं को रोजगार तो मिलेगा साथ ही किसानों का माल समय पर बिकेगा और मंडी को राजस्व मिलेगा।

समर्थन मूल्य, भावांतर योजना और मंडियों में बढ़ती उपज की आवक और व्यापारियों की कमी को देखते हुए युवाओं को कारोबारी बनाने के लिए सीएम युवा मंडी उद्यमी योजना शुरू की है। इसमें युवाओं को कारोबार की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद इन्हें लाइसेंस दिलाया जाएगा ताकि वे मंडी में खरीदी कर सकें। इससे मंडी में व्यापारियों की संख्या में तो इजाफा होगा, साथ ही युवाओं को रोजगार भी मिलेगा और खुद का कारोबार शुरू कर अच्छी कमाई कर सकेंगे। मंडी बोर्ड द्वारा प्रदेश की ऐसी मंडी, उप मंडी जो क्रियाशील नहीं है अथवा मंडी में लाइसेंसी व्यापारियों की संख्या बहुत ही कम है ऐसी मंडियों को क्रियाशील बनाने के लिए और किसानों को अपनी उपज को स्थानीय स्तर पर विक्रय की सुविधा करने के लिए यह योजना शुरू की गई है। इससे मंडी का कारोबार तो बढ़ेगा साथ ही युवाओं को राजस्व मिलेगा। मंडी सचिव लक्ष्मणसिंह ठाकुर ने बताया झाबुआ जिले में युवा इस योजना का लाभ ले सकते हैं। इसके लिए युवा मंडी में आवेदन कर सकते है। जिले में मंडी के साथ ही उपमंडी भी है लेकिन व्यापारियों की कमी से कई मंडियों की तो यह स्थिति है कि खरीदी नहीं हो पा रही है। इससे उप मंडी में खरीदी बिक्री शुरू होगी।

योजना

मंडी बोर्ड ने शुरू की सीएम युवा मंडी उद्यमी योजना, मंडियों को क्रियाशील बनाने के लिए की पहल

ट्रेनिंग के दौरान युवाओं को मिलेंगे 5000 रु. महीना

जानकारी अनुसार बोर्ड द्वारा तीन महीने की ट्रेनिंग युवाओं को दी जाएगी। इस दौरान 5-5 हजार रुपए का स्टायफंड भी दिया जाएगा। प्रशिक्षण के बाद मंडी सचिव की निगरानी में बड़े मंडी व्यापारियों के मार्गदर्शन में तीन महीने की ट्रेनिंग मंडी में दी जाएगी। युवा मंडी उद्यमी को वित्तीय संस्थान अथवा बैंक से रियायती ब्याज तर पर लोन भी उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही मंडी एवं उपमंडी में रिक्त संरचनाओं को रियायती दरों पर आवंटन किया जाएगा। योजना के चयन के लिए युवा को मंडी में आवेदन करना होगा। इसके आधार पर उसका चयन होगा।

कौन बन सकता है व्यापारी

21 से 35 साल का युवा जो स्नातक हो। जो किसी भी बैंक का बकायादार ना हो और मप्र का मूल निवासी हो। इसके बाद ही चयन हो सकेगा।

ये होगा फायदा

युवाओं को रोजगार मिलेगा।

मंडी का राजस्व बढ़ेगा। किसानों को भी फायदा होगा और व्यापारी ज्यादा होने से उनकी उपज भी जल्दी बिकेगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jhabua

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×