• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Jhabua News
  • 8 लेन का एक्सप्रेस-वे : मेघनगर से गरोठ तक 200 किमी के जमीनी सर्वे की रिपोर्ट तैयार
--Advertisement--

8 लेन का एक्सप्रेस-वे : मेघनगर से गरोठ तक 200 किमी के जमीनी सर्वे की रिपोर्ट तैयार

8 लेन का एक्सप्रेस-वे बनाने के लिए जमीनी सर्वे हो गया है। मेघनगर से गरोठ तक 200 किमी की सर्वे रिपोर्ट तैयार है।...

Danik Bhaskar | Jul 22, 2018, 03:00 AM IST
8 लेन का एक्सप्रेस-वे बनाने के लिए जमीनी सर्वे हो गया है। मेघनगर से गरोठ तक 200 किमी की सर्वे रिपोर्ट तैयार है। आपत्तियां बुलवाने के बाद निराकरण कर मुआवजे के प्रकरण तैयार होंगे और फिर जमीन अधिग्रहित होगी। प्रोजेक्ट में देरी न हो इसलिए अगले हफ्ते प्रोजेक्ट मैनेजर मेघनगर से लेकर गरोठ तक के एसडीएम से मुलाकात करेंगे और आने वाली आपत्तियों का तत्काल निराकरण से लेकर एक्सप्रेस-वे निर्माण पूरा होने तक हर काम में सहयोग करने के बारे में बात की जाएगी।

जुलाई की शुरुआत में नेशनल हाई-वे इंडिया के क्षेत्रीय अधिकारी विवेक जायसवाल, प्रोजेक्ट डायरेक्टर रवींद्र गुप्ता पूरे एक्सप्रेस-वे की हकीकत देखने आए थे। टीम ने रूट में टॉवर, बड़ी बिल्डिंग व पवन चक्कियां होने की रिपोर्ट दी थी, जिस पर रास्ते में कुछ बदलाव किए गए। मेघनगर से गरोठ तक के संबंधित प्राधिकृत अधिकारियों ने एक्सप्रेस-वे बनने वाली जमीनों के सर्वे नंबर सहित जमीन की जानकारी तैयार कर नेशनल हाई-वे इंडिया के अधिकारियों को सौंपी है। विज्ञप्ति प्रकाशित कर आपत्तियां बुलवाई जाएगी। पंद्रह दिन में आपत्तियों का निराकरण कर मुआवजा प्रकरण तैयार किए जाएंगे।

एक्सप्रेस वे से 7 घंटे घट जाएगा दिल्ली से मुंबई का सफर

अभी दिल्ली से मुंबई तक के सफर में 24 घंटे लगते हैं। एक्सप्रेस वे बनने से समय 7 घंटे घट जाएगा। करीब 200 किमी दूरी दिल्ली और मुंबई के बीच घटेगी। ट्रेन के सफर के समय में ही सड़क मार्ग से ही पहुंच सकेंगे। अभी रतलाम से दिल्ली ट्रेन से जाने में 10 घंटे लगते हैं वहीं रतलाम से मुंबई ट्रेन से जाने में 8 घंटे लगते हैं। एक्सप्रेस-वे से दिल्ली जाने में 8 और मुंबई जाने में साढ़े 9 घंटे लगेंगे। अभी रतलाम से दिल्ली सड़क मार्ग से जाने में 11 घंटे लगते हैं लेकिन एक्सप्रेस-वे से 8 घंटे में ही पहुंच सकेंगे। रतलाम से मुंबई जाने में सड़क मार्ग से अभी साढ़े 13 घंटे लगते हैं लेकिन एक्सप्रेस-वे से साढ़े 9 घंटे में ही पहुंच सकेंगे।

6 हजार करोड़ रुपए हैं स्वीकृत

दिल्ली-गुड़गांव, मेवात-कोटा, रतलाम-गोधरा, वडोदरा-सूरत, दहीसर-मुंबई जाने वाले इस एक्सप्रेस-वे में वड़ोदरा व गुड़गांव के बीच भूमि अधिग्रहण के लिए 6 हजार करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं। बाकी के हिस्से के लिए भी मुआवजा स्वीकृत होने वाला है। मुआवजे के लिए सर्वे का काम तेजी से चल रहा है। जल्द ही ये काम पूरा हो जाएगा।

जानिए एक्सप्रेस-वे कहां से गुजरेगा

एक्सप्रेस-वे हमारे क्षेत्र में थांदला से जावरा के बीच रतलाम के समीप सैलाना से गुजरेगा। यह गुजरात के वडोदरा से मेघनगर के पास अनास नदी से प्रदेश में प्रवेश करेगा और थांदला, सैलाना, खेजड़िया, शामगढ़, गरोठ, भवानीमंडी, कोटा होकर दिल्ली पहुंचेगा। प्रदेश में इसकी लंबाई 200 किमी रहेगी। इसके बन जाने से कई गांवों को फायदा होगा।

गरोठ से मेघनगर के बीच हुआ सर्वे

हमारे क्षेत्र से गुजरने वाले इस एक्सप्रेस-वे के तैयार होने से रतलाम से मुंबई की सड़क मार्ग की दूरी करीब 125 और रतलाम से दिल्ली की दूरी 150 किमी कम हो जाएगी। इससे दोनों जगह ट्रेन के सफर के समय में सड़क मार्ग से पहुंच सकेंगे।