• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Jhabua News
  • प्रभु के थे साली से अवैध संबंध, साड़ू ने दोनों को देख लिया था साथ, इसलिए कर दी हत्या
--Advertisement--

प्रभु के थे साली से अवैध संबंध, साड़ू ने दोनों को देख लिया था साथ, इसलिए कर दी हत्या

तारखेड़ी और बिजौरी के बीच जंगल में 8 जुलाई को मिली लाश के मामले की गुत्थी सुलझ गई है। यह लाश मसुरिया (राम नगर) के...

Dainik Bhaskar

Jul 15, 2018, 03:05 AM IST
प्रभु के थे साली से अवैध संबंध, साड़ू ने दोनों को देख लिया था साथ, इसलिए कर दी हत्या
तारखेड़ी और बिजौरी के बीच जंगल में 8 जुलाई को मिली लाश के मामले की गुत्थी सुलझ गई है। यह लाश मसुरिया (राम नगर) के बाबूलाल उर्फ प्रभु निनामा की थी, जिसे उसके ही साड़ू मदन नि. केशरपुरा ने अपने दो साथी दिलीप पिता रमेश निनामा नि. मालीपुरा दत्तीगांव व राजेश पिता अमरसिंह सिंगाड़ नि. दूधी के साथ मिल कर मार डाला था। साड़ू मदन ने अपनी प|ी के साथ प्रभु को देख लिया था, जिसके चलते हत्या की साजिश की।

एसपी महेशचंद्र जैन ने बताया आरोपी मदन ने स्वीकार किया है कि घटना के दो दिन पहले प्रभु उसके घर आया था। रात में उसने अपनी प|ी के साथ उसे देख लिया था। तब ही हत्या की साजिश बना ली थी। मदन की बुआ के लड़के गणेश को मदन न अपनी बाइक 13 हजार रुपए में बेची थी। 6 जुलाई को बामनिया में बाइक के रुपए लेना था। तब मदन साड़ू प्रभु, भाई मुकेश, काका मोहन के साथ बामनिया गया था। प्रभु ने उसके दोस्त दिलीप और उसकी भुआ के लड़के राजू को फोन कर बामनिया बुलाया था। बामनिया में गणेश ने 10 हजार रुपए मदन को दिए और 3 हजार रुपए देने के बाद कागज देना तय हुआ। सौदे के बाद सभी ने शराब पी। गणेश अपने घर चला गया। मोहन व मुकेश अपने गांव केशरपुरा चले गए। मदन, प्रभु, दिलीप और राजू एक बाइक पर बैठ कर पेटलावद की तरफ आए। बाइक दिलीप चला रहा था। चापल्दा घाटी पुलिया पर मदन ने अपने साड़ू प्रभु के साथ झगड़ा किया। दोनों के बीच गाली गलौच होने लगी। दिलीप ने बाइक पुलिया के पास रोकी। मदन ने प्रभु की काॅलर पकड़ कर उसे रोड के नीचे कर दिया। एक पत्थर उठा कर मुंह पर मारा, जिससे खून निकलने लगा। फिर मदन, दिलीप व राजू ने प्रभु को बाइक पर बैठाया। तारखेड़ी के पास जंगल में ले गए। प्रभु जिंदा था। मदन ने उसके सिर, मुंह को पत्थरों से कुचल दिया। चाकू से गला काट दिया। उसकी मौत होने पर तीनों आरोपी उसकी लाश 100 मीटर घसीट कर नाले में फेंक आए। मदन को उसके गांव छोड़ कर दोनों आरोपी अपने गांव चले गए।

पांच हजार रुपए पुरस्कार की घोषणा -एसपी महेशचंद्र जैन ने मृतक शिनाख्त से लेकर अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने वाली टीम के निरीक्षक कौशल्या चौहान, एसआई कुंवरसिंह चौहान, एएसआई प्रहलादसिंह चुंडावत, प्रआ हरिराम चौहान, जितेंद्रसिंह, राधेश्याम जाटवा, आरक्षक धीरज ठाकुर, वीरेंद्र, मालसिंह, चालक शाहरूख आदि को पांच हजार रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की।

हाथ में गुदे नाम से प|ी ने की थी पहचान

प्रभु की लाश दो दिन तक जंगल में पड़ी रही थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने लाश का पोस्टमार्टम करवाया। प्रभु की प|ी दीतूबाई ने प्रभु के कपड़े, चप्पल व हाथ में गुदा प्रभु नाम देख कर पहचान की। मृतक के परिजनों ने बताया था कि वह अपने साड़ू के यहां गया था, उसके बाद लौट कर नहीं आया। इसी आधार पर पुलिस ने मदन को हिरासत में लिया और पूछताछ में खुलासा हो गया।

X
प्रभु के थे साली से अवैध संबंध, साड़ू ने दोनों को देख लिया था साथ, इसलिए कर दी हत्या
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..