--Advertisement--

जगन्नाथपुरी की तर्ज पर निकली रथयात्रा

जगन्नाथ रथ यात्रा में भक्ति के रस से सराबोर युवा धार्मिक गीतों पर रास्तेभर थिरकते रहे। इस दौरान जगह-जगह लोगों ने...

Danik Bhaskar | Jul 15, 2018, 03:05 AM IST
जगन्नाथ रथ यात्रा में भक्ति के रस से सराबोर युवा धार्मिक गीतों पर रास्तेभर थिरकते रहे। इस दौरान जगह-जगह लोगों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया। करीब तीन घंटे तक शहर की गलियों में भक्ति की की गंगा बहती रही, जिसमें समूचा शहर डूब गया।

जगन्नाथपुरी की तर्ज पर निकली इस भव्य रथयात्रा के प्रारंभ होने से पूर्व कलेक्टर आशीष सक्सेना व एसपी महेशचंद जैन पहुंच गए। उन्होंने रथ को खींचकर यात्रा की शुरुआत की। आगे-आगे बैंड पर धार्मिक गीतों के स्वर गूंज रहे थे। ढोल-ताशे की आवाज उत्साह को दो गुना कर रही थी। इनके साथ ही गरबा नृत्य करती मातृशक्ति मौजूद थी।

सबसे पीछे रथ में भगवान जगन्नाथ, भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा की प्रतिमा विराजित थी। रथ का एक सिरा पुरुष तो दूसरा सिरा महिलाएं खींच रही थी। इनके साथ ही चल रहा था श्रद्धालुओं का रैला। पूरे रास्ते में कोई छत-छज्जा ऐसा नहीं था जहां दर्शनार्थी मौजूद न हो। नगर के प्रमुख मार्गों से होती हुई रथयात्रा रात को पुन: जगदीश मंदिर पहुंची। यहां महाआरती कर भगवान को केसरिया भात का भोग लगाया गया।

यह था यात्रा का रूट

यात्रा जगदीश मंदिर होकर मालीसेरी गली, भोज मार्ग, चारभुजानाथ मंदिर, आजाद चौक, बाबेल चौराहा, थांदला गेट, रुनवाल बाजार, राधाकृष्ण मार्ग से राजवाड़ा चौक होते हुए पुन: मंदिर पर पहुंचेगी।

कलेक्टर-एसपी ने रथयात्रा में सहभागिता की।