• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Jhabua News
  • कांग्रेसियों ने दिग्विजयसिंह के कान में कहा-जिले में किन्हें दिया जाए टिकट
--Advertisement--

कांग्रेसियों ने दिग्विजयसिंह के कान में कहा-जिले में किन्हें दिया जाए टिकट

लोगों ने विधानसभा वार दिग्विजयसिंह को कान में प्रत्याशियों के नाम बताए। भोजन की पंगत पर दिलाई शपथ कि टिकट किसे...

Dainik Bhaskar

Jul 14, 2018, 03:05 AM IST
कांग्रेसियों ने दिग्विजयसिंह के कान में कहा-जिले में किन्हें दिया जाए टिकट
लोगों ने विधानसभा वार दिग्विजयसिंह को कान में प्रत्याशियों के नाम बताए।

भोजन की पंगत पर दिलाई शपथ कि टिकट किसे भी मिले, जिताएंगे कांग्रेस को

कानाफूसी के बाद सभी कार्यकर्ताओं के साथ दिग्विजयसिंह पंगत में भोजन करने बैठे। उन्होंने खड़े होकर अन्न-जल की शपथ दिलाई कि टिकट किसे भी मिले लेकिन कार्यकर्ता कांग्रेस को ही जिताएंगे। भोजन ग्रहण करते कार्यकर्ताओं ने दोनों हाथ उठा कर शपथ ली।

बैठक में बोले-हम टिकट बांटने नहीं आए

कानाफूसी के पहले हुई बैठक में दिग्विजयसिंह ने कहा कांग्रेस जब एक रहती है तो कोई हरा नहीं सकता लेकिन जब कांग्रेसियों में फूट पड़ती है तो हम चुनाव हार जाते हैं। टिकट तो एक को मिलता है। सरकार बन जाएगी तो सबको कुछ न कुछ मिलेगा। हम यहां टिकट बांटने नहीं आए हैं। यह कमेटी आपको जोड़ने आई है।

टिकट के दावेदारों ने की दिग्विजयसिंह को परोसगारी

जब दिग्विजयसिंह पंगत में बैठ कर भोजन कर रहे थे। तब टिकट के दावेदारों में उन्हें परोसगारी करने की होड़ लग गई। वालसिंह मेड़ा, कलावति भूरिया, जेवियर मेड़ा समेत कई दावेदारों ने उन्हें भोजन परोसा।

मुख्यमंत्री 2003 से अभी तक के बिल माफ करें

बैठक में दिग्विजयसिंह ने कहा-मुख्यमंत्री कहते हैं कि बिजली बिल माफ कर देंगे। 14 साल बाद क्यों याद आई। यदि माफ करना है तो 2003 से अभी तक जो बिल भरवा लिया, वह माफ करो। मोदीजी ने कहा था खाते में 15 लाख रुपए आएंगे। महिला कांग्रेस को हर महीने बैंकों में जाकर मैनेजर से पूछना चाहिए कि हमारे 15 लाख आए कि नहीं आए। यदि नहीं में जवाब मिले तो मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाने चाहिए। आदिवासी झूठ बोलने वाले को माफ नहीं करता। जो झूठ बाेलता है, उसको सबक सिखाते हैं। इस बार सबक सिखाने का मौका है।

मुख्यमंत्री पीठ पीछे मेरी बुराई करते हैं, सामने आने से डरते हैं

प्रेस वार्ता में दिग्विजयसिंह ने कहा-मेरा आरोप है कि शिवराजसिंह चौहान व्यापमं में शामिल थे, अवैध रेत खनन में शामिल थे, ई टेंडरिंग में वो शामिल थे, उनका परिवार शामिल है, आंगनबाड़ी के पोषण आहार में उनका परिवार शामिल है। मैं यह आरोप सोच समझ कर लगा रहा हूं और शिवराजसिंह चौहान में हिम्मत है तो मेरे खिलाफ मानहानि का दावा करें। पीठ पीछे मुख्यमंत्री मेरी बुराई करते हैं लेकिन सामने आने से डरते हैं। वो आ जाए किसी मंच पर और हो जाए बहस कि मैंने 10 साल मुख्यमंत्री रहते क्या किया और उन्होंने 15 साल में क्या किया। मैंने मुख्यमंत्री रहते पावर प्लांट जो शुरू किए, जो टोल रोड स्कीम चालू की, उसका फायदा आज प्रदेश को मिल रहा है। श्रेय भाजपा ने लिया। भाजपा के चंदा लेकर टोकन देने के सवाल पर दिग्विजयसिंह ने कहा पहले तो राम मंदिर के समय जो चंदा इकट्ठा किया था, उसका आरएसएस हिसाब दें। आईएएस एक अपंजीकृत संस्था है, जिसे चंदे का कोई हिसाब किताब नहीं देना होता।

X
कांग्रेसियों ने दिग्विजयसिंह के कान में कहा-जिले में किन्हें दिया जाए टिकट
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..