झाबुआ

--Advertisement--

कलेक्टोरेट में लिपिकों की हड़ताल से पसरा है सन्नाटा

धरना स्थल पर नारेबाजी करते लिपिक कर्मचारी। मांगों को लेकर धरने पर डटे हैं कर्मचारी झाबुआ | मप्र लिपिक वर्गीय...

Dainik Bhaskar

Jul 27, 2018, 03:05 AM IST
कलेक्टोरेट में लिपिकों की हड़ताल से पसरा है सन्नाटा
धरना स्थल पर नारेबाजी करते लिपिक कर्मचारी।

मांगों को लेकर धरने पर डटे हैं कर्मचारी

झाबुआ | मप्र लिपिक वर्गीय कर्मचारी संघ द्वारा अपनी मांगों को लेकर हड़ताल की जा रही है। हड़ताल की वजह से कलेक्टोरेट कार्यालय में सन्नाटा है। लोग अपने काम के लिए चक्कर काट रहे हैं। चार दिनों से लिपिक कर्मचारी कलेक्टोरेट परिसर में धरना देकर बैठे हुए हैं।

कर्मचारी ग्रेड पे उन्नयन सहित रमेशचंद्र शर्मा की समिति की अनुशंसाएं लागू कराने की मांग कर रहे हैं। कर्मचारियों का कहना है मप्र के लिपिक वर्ग की वेतन विसंगति का मुद्दा निरंतर शासन के ध्यान से छूटता रहा है। 26 मई कर कैबिनेट में जिन 46 संवर्गों की ग्रेड पे बढ़ाई गई है। 46 संवर्गों की ग्रेड पे पारस्परिक सापेक्षता के आधार पर बढ़ाई जाती है और लिपिकों के मामले पारस्परिक सापेक्षता के सिद्धांत को लागू नहीं किया जाता। कर्मचारियों का कहना है पटवारी, सहायक शिक्षक, एमपीडब्ल्यू, एएनएम, ग्राम सहायक वन रक्षक, आरक्षक संवर्ग लिपिक से कम थे, अब अधिक वेतन पर हो गए हैं। लिपिकों की समस्याओं का अध्ययन करने के लिए रमेशचंद्र शर्मा समिति गठित की गई थी। जिसके प्रतिवेदन में लिपिक हितैषी 23 अनुशंसाएं है। परंतु मुख्यमंत्री इन अनुशंसाओं को लागू नहीं कर रहे। जब तक मांगे नहीं मानी जाती कर्मचारी हड़ताल पर डटे रहेंगे।

X
कलेक्टोरेट में लिपिकों की हड़ताल से पसरा है सन्नाटा
Click to listen..