• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Jhabua News
  • चुनावी वादों की याद दिलाकर मुख्यमंत्री से कांग्रेस पूछेगी पांच सवाल
--Advertisement--

चुनावी वादों की याद दिलाकर मुख्यमंत्री से कांग्रेस पूछेगी पांच सवाल

सीएम का 3 मई को झाबुआ जिले का दौरा संभावित सांसद भूरिया ने तैयार की विरोध की रणनीति भास्कर संवाददाता | झाबुआ...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:20 AM IST
सीएम का 3 मई को झाबुआ जिले का दौरा संभावित

सांसद भूरिया ने तैयार की विरोध की रणनीति

भास्कर संवाददाता | झाबुआ

चुनावी साल में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के 3 मई के संभावित झाबुआ दौरे को लेकर कांग्रेस ने विरोध की रणनीति तैयार की है। सांसद कांतिलाल भूरिया मुख्यमंत्री को चुनावी वादों की याद दिलाकर उनसे पांच सवाल पूछेंगे। इन पांच सवालों का प्रचार-प्रसार भी किया जा रहा है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री झाबुआ जिले के दौरे पर आ रहे हैं। जिले की जनता उनका कई समय से इंतजार कर रही थी कि चुनाव के समय उन्होंने जो वादे एवं घोषणाएं की थी उनका क्या हुआ। सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया ने बताया सीएम पेटलावद विधायक निर्मला भूरिया के यहां माचलिया में और जोबट विधायक के यहां शादी समारोह में शामिल होने के लिए आ रहे हैं। हालांकि यह उनका निजी दौरा है लेकिन छोटे-मोटे कार्यक्रम बनाकर उन्होंने इसे सरकारी दौरे का नाम दे दिया है। सांसद भूरिया ने सीएम के आगमन को लेकर विरोध की रणनीति बनाई है।

ये पांच सवाल जो सांसद भूरिया ने उठाए हैं

1. मुख्यमंंत्री झाबुआ जिले में आदिवासी छात्र-छात्राओं से माफी मांग कर कहें कि लापरवाही के चलते शिक्षआ सत्र बीत जाने के बाद भी वादे के अनुसार साइकिल नहीं दे पाए।

2. रतलाम- झाबुआ में 1300 करोड़ रुपए की घोषणा की थी। उनका क्या हुआ। आपने घोषणा की थी कि तीन साल के भीतर ही माही का पानी थांदला विधानसभा क्षेत्र को मिलने लगेगा किंतु आज तक नहीं मिला।

3. झाबुआ जिले में तीन साल गुजरने के बाद भी इंजीनियरिंग कॉलेज का भवन बनकर तैयार क्यों नहीं हुआ। इसका जवाब दो।

4. पूर्व सांसद स्व. दिलीपसिंह भूरिया के नाम से मॉडल विद्यालय कब बनेगा। कहीं भी शासकीय स्तर पर पर इसका कहीं कोई जिक्र नहीं है। आखिर मॉडल विद्यालय कब तक बनकर तैयार होगा।

5. मेघनगर और राणापुर महाविद्यालय को प्रारंभ किए जाने के बाद भी आज तक न तो सरकारी भवन उपलब्ध है और ना ही विद्यार्थियों के लिए प्रोफेसर। ऐसे महाविद्यालय खोलने का क्या लाभ है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..