--Advertisement--

जुलूस परमिशन लेने लिए नहीं जाना पड़ेगा 85 किमी दूर

रामा तहसील के 125 गांवों के लोगों को बड़ी राहत मिली है। तहसील को पेटलावद अनुभाग से हटा कर झाबुआ में शामिल कर दिया गया...

Dainik Bhaskar

Aug 04, 2018, 03:30 AM IST
रामा तहसील के 125 गांवों के लोगों को बड़ी राहत मिली है। तहसील को पेटलावद अनुभाग से हटा कर झाबुआ में शामिल कर दिया गया है। इससे अब लोगों को जुलूस के लिए एसडीएम से परमिशन लेने जैसे कामों के लिए 85 से 100 किमी दूर तक नहीं जाना पड़ेगा। कलेक्टर आशीष सक्सेना ने गुरुवार शाम रामा तहसील को पेटलावद से हटा कर झाबुआ में शामिल करने का आदेश जारी किया। इसके बाद राहत महसूस करने वाले गांवों के कई लोग शुक्रवार को कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और कलेक्टर का आभार माना। उन्हें मिठाई भी खिलाई।

राहत

रामा तहसील के 125 गांव पेटलावद अनुभाग से हटा कर झाबुआ में शामिल

ऐसी परेशानियां उठा रहे थे लोग





धन्यवाद देने पहुंचे तो किसी ने राहत दिलाने का दावा

पारा व आसपास के 37 गांवों को राहत मिलने से जनपद सदस्य गजेंद्रसिंह राठौर, मंडल अध्यक्ष ओंकारसिंह डामोर समेत भाजपाई कलेक्टर सक्सेना को धन्यवाद देने पहुंचे। राठौर ने बताया-जनता की समस्या प्रशासन को बताई, जिसे गंभीरता से लिया गया और समस्या हल हुई। उधर, पेटलावद विधायक निर्मला भूरिया के समर्थकों का कहना है-रामा तहसील के ग्रामीणों ने उन्हें समस्या बताई थी, जिसके चलते विधायक ने प्रशासन को पत्र लिखा, जिससे समस्या हल हुई।

अब 831 में से 360 गांव झाबुआ अनुभाग में

जिले में कुल चार अनुभाग हैं। मेघनगर और थांदला में एक-एक तहसील ही हैं। रामा के अलग होने से पेटलावद भी एक ही तहसील का अनुभाग रह गया है। झाबुआ में रामा, झाबुआ और राणापुर तीन तहसीलें हो गई हैं। रामा में 125, झाबुआ में 139 और राणापुर में 96 गांव हैं। यानी पूरे जिले के 831 राजस्व ग्राम में से 360 झाबुआ में हो गए हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..