• Hindi News
  • Rajya
  • Madhya Pradesh
  • Jhabua
  • सेवा और सत्संग एक दूसरे को जोड़ने का माध्यम है : दिव्येश कुमार महाराज

सेवा और सत्संग एक-दूसरे को जोड़ने का माध्यम है : दिव्येश कुमार महाराज / सेवा और सत्संग एक-दूसरे को जोड़ने का माध्यम है : दिव्येश कुमार महाराज

Jhabua News - भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर वैष्णवता एक ऐसा संबंध है जो एक वैष्णव को दूसरे वैष्णव से जोड़ता है। इस संबंध की...

Bhaskar News Network

Jul 21, 2018, 03:45 AM IST
सेवा और सत्संग एक-दूसरे को जोड़ने का माध्यम है : दिव्येश कुमार महाराज
भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर

वैष्णवता एक ऐसा संबंध है जो एक वैष्णव को दूसरे वैष्णव से जोड़ता है। इस संबंध की कड़ी है सेवा और सत्संग। इसी के माध्यम से वैष्णव में वैष्णवता के गुण विकसित होते हैं। हरि-गुरु की सेवा की प्रेरणा मिलती है। हर वैष्णव का यह कर्तव्य है की दूसरे वैष्णव को सेवा अनुलक्षी हर कार्य में सहयोग देंवे। उनकी सेवा संबंधी अज्ञानता एवं आतुरता का तुरंत ही समाधान करें। यदि वैष्णव से संभव न हो तो अपने गुरु के पास जाकर समाधान करवाएं ताकि दूसरा वैष्णव किसी तीसरे वैष्णव को सहयोग करने में सामर्थ्यवान बने।

ये बात स्थानीय हरसोला वणिक समाज के वल्लभ भवन में दिव्येश कुमार महाराज ने एक दिवसीय प्रवास के दौरान आयोजित ब्रम्ह संबंध कार्यक्रम में समाजजन से कही। इस दौरान उन्होंने आगामी जनवरी में दिव्य अलौकिक दंडवती यात्रा में सभी वैष्णवजन को शामिल होने का निमंत्रण भी दिया। इससे पहले महाराजश्री के नगर आगमन के दौरान उनकी आगवानी की गई। ढोल-ढमाकों और पुष्पवर्षा के साथ स्वागत कर चल समारोह निकाला गया। जिसमें बड़ी संख्या में समाज की महिला एवं पुरुष ने भाग लिया।

वैष्णवों के घर पहुंचे महाराजश्री : हरसोला वणिक समाज अध्यक्ष राजेंद्र मोदी ने बताया कि महाराजश्री निवास इंदौर, राजस्थान के जोलाना, बांसवाड़ा, मप्र के झाबुआ, खेतिया होते हुए आलीराजपुर पहुंचे थे। इस अवसर पर उनके द्वारा कई वैष्णवों को ब्रम्ह संबंध भी प्रदान किया गया। महाराजश्री कई वैष्णवजन के घर पहुंचे और उन्हें आशीर्वाद दिया।

वल्लभ भवन में संबोधित करते दिव्येश कुमार महाराज व उपस्थित समाजजन।

X
सेवा और सत्संग एक-दूसरे को जोड़ने का माध्यम है : दिव्येश कुमार महाराज
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना