--Advertisement--

पाठक मंच ने देनपा तिब्बत की डायरी व प्रो. माथुर

पाठक मंच ने देनपा तिब्बत की डायरी व प्रो. माथुर की प्रयोगशाला पुस्तक की समीक्षा की भास्कर संवाददाता | झाबुआ ...

Dainik Bhaskar

Jul 18, 2018, 03:50 AM IST
पाठक मंच ने देनपा तिब्बत की डायरी व प्रो. माथुर की प्रयोगशाला पुस्तक की समीक्षा की

भास्कर संवाददाता | झाबुआ

पाठक मंच की झाबुआ इकाई द्वारा मासिक पुस्तक ‘देनपा तिब्बत की डायरी पुस्तक और प्रो. माथुर की प्रयोगशाला (कहानी संग्रह) की समीक्षा की। आयोजन दिनेश पाठक अध्यक्ष (मालवा प्रांत) राष्ट्रीय कवि संगम इंदौर के मुख्य आतिथ्य एवं डॉ. रामशंकर चंचल की अध्यक्षता में हुआ। पाठक मंच के जिला संयोजक भेरूसिंह चौहान तरंग ने कार्यक्रम शुरुआत की।

चंचल ने कहा देनपा तिब्बत की डायरी तिब्बत वासियों की संघर्ष से भरी व्यथा को व्यक्त करती है। जिसमें तिब्बत की प्राकृतिक सौंदर्य के साथ ही यहां की राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक चित्रण को प्रस्तुत किया गया है। मोहनसिह सोलंकी ने कहा देनपा तिब्बत की डायरी में तिब्बत वासियों की पीड़ा और होने वाले अत्याचारों को व्यक्त करते हुए परिवार से बिछड़े पुत्र को वापस लौटना एवं वहां के हालातों पर दृष्टिपात किया है। भावेश त्रिवेदी ने कहा लेखक विवेक द्विवेदी की पुस्तक ‘प्रो. माथुर की प्रयोगशाला’ एक कहानी संग्रह है जो कि सरल सहज भाषा शैली में हर पाठक को पढ़ने को विवश कर देती है। पाठक मंच के संयोजक भेरूसिंह चौहान तरंग ने बताया देनपा तिब्बत की डायरी में राजनैतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक गतिविधियों व घटनाओं पर आधारित मार्मिक एवं प्रासंगिक उपन्यास है। इसमें तिब्बत पर चीनी आधिपत्य अंगीकार न करने और भारत में शरणार्थियों के रूप में व्यथा को उजागर किया है। इस अवसर पर जीएल शाह, जयंतीलाल राठौर, राष्ट्रीय संयोजक विश्व युवा सशक्तिकरण संघ, दिल्ली के राष्ट्रीय संयोजक अनुराग द्विवेदी भी मौजूद थे। कार्यक्रम के अंत में काव्य गोष्ठी का आयोजन भी हुआ।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..