Hindi News »Madhya Pradesh »Jhabua» सौभाग्य योग में श्रावण, पहला सोमवार आज, गूंजेंगे बोल बम के जयकारे

सौभाग्य योग में श्रावण, पहला सोमवार आज, गूंजेंगे बोल बम के जयकारे

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 30, 2018, 03:55 AM IST

सौभाग्य योग में श्रावण, पहला सोमवार आज, गूंजेंगे बोल बम के जयकारे
मनकामेश्वर महादेव मंदिर : छोटे तालाब किनारे स्थित इस मंदिर की विशेषता इसका आकर्षक रूप है। सोमवार को तड़के भगवान का रूद्राभिषेक किया जाएगा। सुबह आरती होगी। मंदिर की विद्युत सज्जा प्रतिवर्ष आकर्षक रहती है।

गोपेश्वर महादेव मंदिर : डीआरपी लाइन स्थित इस मंदिर को बड़ा शंकर मंदिर के नाम से जाना जाता है। मंदिर समिति द्वारा श्रावण मास के पहले सोमवार के लिए विशेष तैयारी की गई है। इस दिन सुबह भगवान भोलेनाथ का रूद्राभिषेक किया जाएगा। रात 8 बजे महाआरती होगी। इसके पश्चात प्रसादी बांटी जाएगी।

सिद्धेश्वर महादेव मंदिर : सिद्धेश्वर कॉलोनी स्थित यह मंदिर शहर के लोगों के लिए श्रद्धा का केंद्र है। शहर के बीचोंबीच होने की वजह से यहां पर श्रद्धालुओं का सुबह-शाम तांता लगा रहता है। मंदिर समिति के सदस्यों ने बताया तैयारी अंतिम चरण में है। सुबह भगवान का अभिषेक व आरती की जाएगी। शाम को आरती के बाद भक्तों को प्रसादी दी जाएगी।

उमापति महादेव मंदिर : विवेकानंद कॉलोनी स्थित शिव मंदिर में भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण होती है। सुबह-सुबह मंदिर में भगवान भूतनाथ का जलाभिषेक करने वालों की भीड़ लगी रहती है। श्रावण सोमवार के दिन मंदिर में दिनभर धार्मिक कार्यक्रम होंगे। सुबह प्रभु का अभिषेक और आरती की जाएगी। शाम को महाआरती होगी।

तीर्थस्थल देवझिरी : नगर से आठ किमी दूर प्राचीन तीर्थस्थल देवझिरी आस्था का केंद्र है। मंदिर के पास बने एक कुंड से 24 घंटे जलधारा बहती है।

सोमेश्वर महादेव मंदिर : नजर बाग स्थित सोमेश्वर महादेव मंदिर एकमात्र जनेऊधारी शिवलिंग है। मंदिर समिति के सदस्यों ने बताया मंदिर में विशेष पूजा की जाएगी। यह मंदिर भी लोगों की आस्था का केंद्र है।

श्रावण को खास बना रहे योग

सौभाग्य योग : इसे मंगलदायक योग भी कहते हैं। इस योग में की गई शादी से वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है। अकसर विवाह आदि मुहूर्त में यह योग देखा जाता है।

धनिष्ठा योग : इसका अर्थ होता है सबसे धनवान। वैदिक ज्योतिष की गणनाओं के लिए महत्वपूर्ण माने जाने वाले 27 नक्षत्रों में से धनिष्ठा को 23वां नक्षत्र माना जाता है। इस योग में जन्मे लोग बहुमुखी प्रतिभा और बुद्धि के धनी होते हैं।

द्विपुष्कर योग : यह योग वार, तिथि व नक्षत्र तीनों के संयोग से बनने वाला विशिष्ट योग है। इसमें धन लाभ होता है। इसके अलावा धार्मिक यात्राएं करने से पुण्य कई गुणा बढ़ता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jhabua

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×