--Advertisement--

बहू की हत्या करने वाले बेटे को पिता ने गवाही देकर कराई उम्रकैद

नवागांव में 2015 में हुई महिला की हत्या के मामले में कोर्ट का फैसला भास्कर संवाददाता | झाबुआ नवागांव में 10 फरवरी 2015...

Dainik Bhaskar

Jul 27, 2018, 03:55 AM IST
नवागांव में 2015 में हुई महिला की हत्या के मामले में कोर्ट का फैसला

भास्कर संवाददाता | झाबुआ

नवागांव में 10 फरवरी 2015 को हुई महिला भूरीबाई की हत्या के मामले में उसके पति नरसिंह पिता झीतरा डामोर को अपर न्यायाधीश अशफाक अहमद खान की कोर्ट ने बुधवार को उम्रकैद की सजा सुनाई। घटना के चश्मदीद आरोपी के पिता थे, जिन्होंने अपने बेटे के खिलाफ कोर्ट में गवाही दी। उनकी गवाही को सबसे विश्वसनीय मानते हुए कोर्ट ने फैसला सुनाया।नरसिंह व भूरीबाई के नौ बच्चे हैं, जिनकी पहले मां चली गई, अब पिता आजीवन के लिए जेल चला गया। वे अपने मामा के घर आमली फलिया में रह रहे हैं। पैरवी करने वाले अपर लोक अभियोजक जुवानसिंह डावर ने बताया घटना के 10-12 दिन पहले नरसिंह ने भूरीबाई से झगड़ा किया तो भूरीबाई अपने भाई केनसिंह के घर आमली फलिया चली गई थी। 10 फरवरी 2015 को भूरीबाई को उसका भतीजा वापस नवागांव छोड़ गया था। यहां शाम 7 बजे आरोपी पति नरसिंह ने आपसी विवाद मायके जाकर भाई को बताने को लेकर विवाद हुआ। नरसिंह ने कमरे का दरवाजा बंद कर फालिये, लाठी आदि से भूरीबाई की हत्या कर दी। नरसिंह के पिता ने खिड़की से पूरी घटना देखी और भूरीबाई के परिजन को बताई। न्यायालय में 9 साक्षियों के कथन करवाए गए।

न्यायालय ने घटना के चश्मदीद आरोपी नरसिंह के पिता के कथन को सबसे विश्वसनीय माना और नरसिंह को अपनी प|ी भूरीबाई का दोषी पाते हुए आजीवन कारावास और 5000 रुपए अर्थदंड से दंडित किया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..