--Advertisement--

सिलिकोसिस से हुई थी मौत, परिजनों को 3-3 लाख का मुआवजा देने का आदेश

भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के प्रकरण 04 मई 2006 के अनुसार जिले के सिलिकोसिस बीमारी से...

Dainik Bhaskar

Jul 08, 2018, 04:00 AM IST
भास्कर संवाददाता | आलीराजपुर

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के प्रकरण 04 मई 2006 के अनुसार जिले के सिलिकोसिस बीमारी से मृत हितग्राहियों के 120 वारिसानों को मुआवजा 3-3 लाख रुपए देने का आदेश आयोग ने दिया है। राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग की सुनवाई 27 अप्रैल 2018 के बाद कलेक्टर आलीराजपुर को 3 करोड़ 60 लाख रुपए, झाबुआ को 5 करोड़ 1 लाख रुपए, धार को 1 करोड़ 92 लाख रुपए, गुजरात के आणनंद जिले को 1 करोड़ 83 लाख रुपए, दाहोद को 1 करोड़ 24 लाख रु. राशि का राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने आदेश दिया है। इससे पहले 23 अगस्त 2016 को सुप्रीम कोर्ट के प्रकरण के अनुसार 238 लोगों को 3-3 लाख रु. का मुआवजा झाबुआ, धार एवं आलीराजपुर के सिलिकोसिस के परिवारजनों को दिया था। खेडूत मजदूर चेतना संगठन कार्यकर्ता शंकरभाई तड़वाल, मगनसिंह कलेश एवं जुवानसिंह, इडलसिंह ने सिलिकोसिस की गंभीर बीमारी की समस्या को लेकर 21 जुलाई 2007 को राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग में याचिका दायर की थी। आयोग के निर्णय के बाद न्याय मिल रहा है। राशि वितरण के लिए कलेक्टर ने मृतक से संबंधित गांव के पटवारियों को निर्देशित कर मृतकों के वैध उत्तराधिकारी की सूची, बैंक खाता क्रमांक एवं अाईएफएससी कोड़ की जानकारी, जांच प्रतिवेदन-प्रकरण तैयार कर एसडीएम व तहसीलदार को उपलब्ध कराने का आदेश दिया है। जिससे मृतक के आश्रितों को मुआवजा राशि का भुगतान कर गुजरात सरकार को अवगत कराया जा सकें।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..