--Advertisement--

आयोग की टीम के प्रयास से स्वस्थ होकर अपने घर लौटी शीतल

जिले के गांव झकनावदा में पिछले एक वर्षों से बंदी बनी शीतल (25) को सड़ांध लगने से राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल...

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2018, 04:05 AM IST
आयोग की टीम के प्रयास से स्वस्थ होकर अपने घर लौटी शीतल
जिले के गांव झकनावदा में पिछले एक वर्षों से बंदी बनी शीतल (25) को सड़ांध लगने से राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग की टीम ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। करीब एक महीने के उपचार के बाद अब शीतल स्वस्थ होकर अपने घर लौट गई है। युवती ने आयोग टीम से कहा कि आपकी वजह से मैं आज ठीक हो पाई हूं।

राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट एवं प्रदेश प्रभारी किर्तीश जैन ने बताया कि अब शीतल का मानसिक उपचार भी करवाया जाएगा। इसके लिए शीतल को आगामी जनसुनवाई में कलेक्टर से मिलवाकर उसका मानसिक उपचार इंदौर या उज्जैन जैसे बड़े शहरों में कराने के लिए आर्थिक सहायता की मांग की जाएगी। शीतल को 30 जून से हॉस्पिटल से छुट्टी दी गई और वह परिवार सहित अपने घर स्वस्थ होकर लौटी। शीतल के अपने घर लौटने पर उसका हाल चाल जानने मोहल्लेवासी भी पहुंचे। राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग, राजपूत करणी सेना एवं महाकाल मित्र मंडल की टीम ने घर पहुंच कर शीतल के स्वास्थ की जानकारी लेते हुए फल-बिस्किट दिए।

शीतल को मिलने पहुंचे महाकाल मित्र मंडल व मानव अधिकार आयोग के सदस्य

X
आयोग की टीम के प्रयास से स्वस्थ होकर अपने घर लौटी शीतल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..