Hindi News »Madhya Pradesh »Jhabua» सामने के 2 गेट बंद, जिस गेट से रखा प्रवेश उससे आने के लिए चलना होगा रांग साइड

सामने के 2 गेट बंद, जिस गेट से रखा प्रवेश उससे आने के लिए चलना होगा रांग साइड

कलेक्टर के आदेश पर रविवार को जिला अस्पताल के सामने के दोनों मुख्य गेट बंद कर दिए। सूचना लगा दी गई कि सज्जन रोड वाले...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 02, 2018, 04:10 AM IST

सामने के 2 गेट बंद, जिस गेट से रखा प्रवेश उससे आने के लिए चलना होगा रांग साइड
कलेक्टर के आदेश पर रविवार को जिला अस्पताल के सामने के दोनों मुख्य गेट बंद कर दिए। सूचना लगा दी गई कि सज्जन रोड वाले गेट से आएं। हैरानी की बात यह है कि सज्जन रोड वाले जिस रास्ते से प्रवेश के लिए कहा है वहां सामने डिवाइडर है। बस स्टैंड की ओर से जिला अस्पताल में जाने के लिए वाहनों को रांग साइड चलाना पड़ेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि सज्जन रोड के डिवाइडर में ब्रेकअप उत्कृष्ट मैदान में जाने के लिए घाटी पर बना है। वह गेट से काफी दूर है। यदि सही साइड से चलते हुए इस ब्रेकअप से वाहन का U टर्न लेने की कोशिश भी की जाए तो घाटी पर चढ़ाई खड़ी होने और सड़क की चौड़ाई कम होने से वाहन पलटने का खतरा है। एंबुलेंस को मुख्य गेट से लाने की व्यवस्था रखी है पर यहां बंद गेट के बाहर बाइक खड़ी हो रही हैं। ऐसे में यदि एंबुलेंस को भी सज्जन रोड से लाना होगा तो या तो रांग साइड से लाना होगा। अन्यथा उत्कृष्ट विद्यालय मैदान की आेर जाने के लिए बने डिवाइडर के ब्रेकअप से U टर्न लेने पर एंबुलेंस पलटने का खतरा रहेगा।

पहले ही दिन 108 फंसी, मुख्यालय में दी सूचना

रविवार को एक केस लेकर एंबुलेंस पहुंची तो अस्पताल के बंद पड़े मुख्य द्वार के बाहर बाइकें खड़ी थीं। 108 एंबुलेंस को सज्जन रोड से ले जाना पड़ा। डिवाइडर के कारण एंबुलेंस रांग साइड चली और अस्पताल के पिछले गेट में जाने के लिए टर्न लेने में भी दिक्कत आई। स्टाफ का कहना है कि इमरजेंसी में 1-1 मिनट कीमती होता है। नई व्यवस्था से अस्पताल जाने में समय ज्यादा लग रहा है। इसकी शिकायत स्टाफ ने 108 एंबुलेंस के मुख्यालय पर की है।

ड्रोन से लिए गए फोटो से समझिए नयी व्यवस्था से कैसे बढ़ गई है उलझन

गेट नंबर 3

यह गेट पहले से बंद है लेकिन अब इसे भी हमेशा बंद रखा जाएगा। यहां भी गेट के बाहर बाइक खड़ी हो रही हैं।

पिछला गेट जहां से

वाहन आएंगे। यहां सामने ही डिवाइडर है। डिवाइडर बीच में से तोड़ा नहीं जाता है तो वाहन रांग साइड चलेंगे।

बाइक हटवाने की व्यवस्था करेंगे

कलेक्टर के आदेश पर नई व्यवस्था की गई है। इसलिए बैनर पर यह सूचना भी लगा दी है। बंद गेट के बाहर यदि बाइक खड़ी हो रही है, तो उन्हें हटवाने के लिए व्यवस्था की जाएगी। डॉ. आरएस प्रभाकर, सिविल सर्जन जिला अस्पताल झाबुआ

गेट नंबर 2

यह मुख्य गेट है जो रविवार को बंद किया। गेट के बाहर बाइक खड़ी हो रही हैं, जिससे एंबुलेंस तत्काल नहीं जा पाएगी।

ड्रोन से अंकित जैन द्वारा लिया गया फोटो।

सुधार के लिए प्रयोग किया है

अस्पताल भवन के सामने ही वाहन खड़े हो जाते थे। एंबुलेंस आने में दिक्कत होती थी, इसलिए व्यवस्था बदली है। गार्ड लगाकर बंद गेट के बाहर पार्किंग होने से रुकवाएंगे ताकि एंबुलेंस मुख्य गेट से ही अस्पताल में आए। जरूरत पड़ी तो सज्जन रोड का डिवाइडर तोड़कर रास्ता बनाएंगे। सुधार के लिए प्रयोग किया है, यदि सफल नहीं रहा तो पुरानी व्यवस्था बहाल कर देंगे। आशीष सक्सेना, कलेक्टर झाबुआ

गेट नंबर 1

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jhabua

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×