--Advertisement--

श्रावण 28 से, हर दूसरे-तीसरे दिन व्रत, पर्व व शुभ तिथि

श्रावण मास का शुभारंभ शनिवार 28 जुलाई से होगा। श्रावण मास में इस बार चार सोमवार पड़ेंगे जबकि रविवार और शनिवार...

Dainik Bhaskar

Jul 23, 2018, 07:00 AM IST
श्रावण मास का शुभारंभ शनिवार 28 जुलाई से होगा। श्रावण मास में इस बार चार सोमवार पड़ेंगे जबकि रविवार और शनिवार पांच-पांच होंगे। इसके साथ ही 11 अगस्त को हरियाली अमावस्या के दिन ही शनिश्चरी अमावस्या भी मनाई जाएगी

देवशयनी एकादशी पर 23 जुलाई से साधु-संतों का चातुर्मास प्रारंभ हो जाएगा। चातुर्मास करने के लिए मंदिरों में साधु- संतों का आगमन हो चुका है। खास कर जैन मंदिरों में चातुर्मास पर जैन मुनियों के सान्निध्य में कई अनुष्ठान और प्रवचन होंगे। दूसरी ओर 27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के दूसरे दिन से श्रावण मास का शुभारंभ होगा। श्रावण का पहला सोमवार 30 जुलाई को और पहला प्रदोष 9 अगस्त को होगा। ये दोनों दिन शिव पूजा के लिए खास माने जाते हैं। इन तिथियों में शिवालयों में पूजा-अर्चना के लिए भीड़ उमड़ेगी। चातुर्मास के चलते विवाह नहीं होंगे, किंतु धार्मिक अनुष्ठान व प्रवचन आदि कार्यक्रम बहुतायत से होंगे। श्रावण मास में इस बार हर दूसरे अथवा तीसरे दिन को न कोई पर्व, व्रत अथवा शुभ तिथि रहेगी। पं. विश्वनाथ शुक्ल ने बताया कि देवशयनी एकादशी से चार माह तक विवाह व अन्य शुभ कार्य नहीं होंगे, किंतु धार्मिक कार्य यथावत चलते रहेंगे। शास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु इस एकादशी से चार माह क्षीर सागर में विश्राम करते हैं। इस दौरान भगवान शिव सृष्टि का संचालन करते हैं। श्रावण मास में उनकी विशेष पूजा का विधान है। साधु-संत अपनी यात्राएं बंद कर मंदिरों व अन्य देव स्थानों पर चातुर्मास करेंगे। सनातनी और जैन मंदिरों में संत व महात्माओं का एकादशी से आगमन प्रारंभ हो जाएगा।

धर्म

चार महीने मंदिराें में रुकेंगे संत, सभी सावन सोमवार पर शिवालयों में होगी विशेष पूजा-अर्चना

27 जुलाई को मनेगी गुरु पूर्णिमा

27 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के अगले दिन से श्रावण मास प्रारंभ हो जाएगा। इसके बाद मंगला गौरी व्रत व पूजन 31 जुलाई को होगी। मोना पंचमी 3 अगस्त को होगा। इसके बाद 7 को कामिका एकादशी, 9 को प्रदोष व शिव चतुर्दशी व्रत हरियाली अमावस्या 11 को, सिंधारा दोज 13 को, नाग पंचमी 15 को, कल्कि अवतार दिवस 16 को होगा। संत तुलसीदास जयंती 17 को, महाकाल जयंती 20 को, 22 को पुत्रदा एकादशी, 23 को प्रदोष व्रत, 25 को व्रत पूर्णिमा, 26 को स्नान-दान पूर्णिमा व रक्षाबंधन पर्व मनाया जाएगा। महाकाल नवमी व कजलिया 27 को मनाई जाएगी।

शिव पूजा-आराधना की खास तिथियां

श्रावण सोमवार : पहला 30 जुलाई, दूसरा 6, तीसरा 13 व चौथा 20 अगस्त को होगा।

प्रदोष : पहला 9 व दूसरा 23 अगस्त को।

पुष्य नक्षत्र : 10 अगस्त को पुष्य नक्षत्र का संयोग रहेगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..