Hindi News »Madhya Pradesh »Jhabua» ऑटो में इतने स्कूली बच्चे कि हैंडल घुमाने की जगह ही नहीं बची

ऑटो में इतने स्कूली बच्चे कि हैंडल घुमाने की जगह ही नहीं बची

ऑटो और वैन में बच्चों का बेतरतीब तरीके से परिवहन फिर शुरू भास्कर संवाददाता | झाबुआ इंदौर में हुए डीपीएस हादसे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 20, 2018, 10:10 AM IST

ऑटो में इतने स्कूली बच्चे कि हैंडल घुमाने की जगह ही नहीं बची
ऑटो और वैन में बच्चों का बेतरतीब तरीके से परिवहन फिर शुरू

भास्कर संवाददाता | झाबुआ

इंदौर में हुए डीपीएस हादसे के बाद स्कूली बच्चों को लाने-ले जाने वाले वैन और ऑटो पर इंदौर में प्रतिबंध लगाया गया था। झाबुआ में सुरक्षा को लेकर मांग उठी थी लेकिन जैसे-जैसे हादसे की याद धुंधली पड़ने लगी, वैसे-वैसे वैन व ऑटो में स्कूली बच्चों का बेतरतीब तरीके से परिवहन फिर शुरू हो गया। अब शहर में ऐसे स्कूली वैन और ऑटो बड़ी संख्या में दिखाई दे रहे हैं। गुरुवार को भास्कर ने पड़ताल की तो एक वैन में अधिक बच्चे बैठाने के लिए सीट में पीठ टिकाने वाला हिस्सा काट कर अतिरिक्त सीट लगाई हुई मिली। 3 की बैठक क्षमता वाली लगभग सभी ऑटो में 15 बच्चे बैठाए मिले। चालक की सीट पर दोनों तरफ बच्चे बैठाए जा रहे हैं, जिससे हैंडल घुमाने में दिक्कत हो रही थी।

ओवरलोडिंग की दो वजहें

स्कूल बसों पर सख्त गाइडलाइन के चलते स्कूलों ने शुल्क बढ़ा दिया है। कई स्कूल अपनी बसें नहीं चलाते।

300 रुपए महीना लेने वाले अधिक संख्या में बच्चे ले जा रहे। 600 रुपए लेने वाले चालकों के वाहनों में संख्या कम।

पिछले साल वैन में लगी थी आग : पिछले साल बस स्टैंड के पीछे स्थित एक स्कूल में खड़ी वैन में बच्चे उतरते समय आग लग गई थी। तत्काल बच्चे उतार लेने से बड़ा हादसा टल गया था।

वाहनों की चेकिंग भी बंद

डीपीएस हादसे के बाद परिवहन विभाग ने स्कूलों की बसें चेक कर देखा था कि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है या नहीं। इस बार यह जांच भी बंद है।

जल्द चलेगा जांच अभियान

स्कूलों में चल रही वैन व ऑटो पर लागू की जाने वाली गाइडलाइन विभाग से बुलवाई गई है। जल्द जांच अभियान चलाया जाएगा। राजेश गुप्ता, एआरटीओ झाबुआ

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jhabua

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×