• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Jhabua
  • Jhabua News mp news human speed is the best speed in four motions in which the life of abstinence can be attained rajat chandra vijayji

चार गतियों में मानव गति ही श्रेष्ठ गति, जिसमें संयम जीवन प्राप्त किया जा सकता है : रजतचंद्र विजयजी

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:11 AM IST

Jhabua News - मेरे संयम जीवन को सफलता के शिखर तक पहुंचाने में मेरे गुरु आचार्य ऋषभचंद्र विजयजी, मेरे गुरु भ्राता मुनि...

Jhabua News - mp news human speed is the best speed in four motions in which the life of abstinence can be attained rajat chandra vijayji
मेरे संयम जीवन को सफलता के शिखर तक पहुंचाने में मेरे गुरु आचार्य ऋषभचंद्र विजयजी, मेरे गुरु भ्राता मुनि पीयूषचंद्र विजयजी एवं मेरे जन्म के माता-पिता का अहम रोल रहा है। मैं इन सभी का हमेशा ऋणी रहूंगा।

यह बात मुनिराज रजतचंद्र विजयजी ने उनके संयम जीवन के 24वें वर्ष प्रवेश प्रसंग के उपलक्ष्य में आयोजित तीन दिवसीय जिनेंद्र भक्ति महोत्सव के दूसरे दिन शुक्रवार को व्यक्त किए। उन्होंने कहा चार गतियों में मानव गति ही श्रेष्ठ गति है। जिसमें संयम जीवन प्राप्त किया जा सकता है। झाबुआ श्रीसंघ से भी असीम प्यार दुलार प्राप्त हुआ है एवं सुभाषचंद्र कोठारी परिवार का भी अभारी हूं, जिन्होंने मुझे धर्मपुत्र बनाया। रजतचंद्रविजयजी ने सामयिक महिमावली पदं के माध्यम से समझाते हुए बताया सामयिक शुद्धभाव से करने पर भगवान महावीर तक पहुंचा जा सकता है और दुख को सुख में परिवर्तित किया जा सकता है। लेकिन यह सामयिक रागद्वेष से रहित होना चाहिए। शुद्ध सामयिक से नरक से स्वर्ग गति मे जाया जा सकता है। इसके पूर्व मुनिश्री के संयम के 24वें वर्ष में प्रवेश उपलक्ष्य पर गुणानुवाद सभा भी हुई। इस अवसर पर साध्वीश्री दर्शनलेखाश्रीजी ने कहा मुनिश्री रजतचंद्र विजयजी सरल स्वभावी एवं मधुर वाणी से अपने प्रवचन देते हैं, जो सहज ही श्रावक-श्राविकों के मन को छू जाते हैं। साध्वीश्री मनीषरसाश्रीजी ने रजतचंद्रविजयजी के संयम के 24वें वर्ष में प्रवेश पर अनुमोदना करते हुए अपने आत्मा को श्रेष्ठतम बनाने की शुभकामना दी।

साध्वीश्री पदमावती श्रीजी, चंदनबालाश्रीजी ने रजतचंद्रविजयजी के माता-पिता को धन्यवाद दिया जिन्होंने जिन शासन को अपने दो पुत्र समर्पित किए। संजय मेहता ने श्रीसंघ झाबुआ की ओर से मुनिराज को संयम जीवन की शुभकामनाएं दीं। कार्यक्रम की शुरुआत में भगवान महावीर की तस्वीर पर अतिथियों सोहनलाल परमार (पुणे), सुभाष कोठारी परिवार, अनोखीलाल नाहर (मुबंई), संदीप जैन आदि ने माल्यार्पण कर दीप प्रज्ज्वलित किया।

मुनिराज को अभिनंदन पत्र भेंटकर वाणी भूषण की उपाधि से विभूषित किया

कार्यक्रम के दौरान आचार्य आनंद ऋषिजी समुदाय परिवार की ओर से साध्वीमंडल ने रजतचंद्र विजयजी को अभिनंदन पत्र भेंटकर वाणी-भूषण की उपाधि से विभूषित किया। इस दौरान मुनिराज पीयूषचंद्र विजयजी ने कहा ये मेरे लघु भ्राता है और प्रारंभ से ही इन्होंने धार्मिक सूत्र आदि याद कर लिए थे।

तीन दिवसीय जिनेंद्र भक्ति महोत्सव के दूसरे दिन धर्मसभा में मौजूद समाजजन।

रोज एक सामयिक करने का व्रत धारण किया

आयोजन के दौरान समाज के कई श्रावक-श्राविकाओं ने मुनिश्री के 24वें संयम वर्ष में प्रवेश प्रसंग पर प्रतिदिन एक सामयिक करने के व्रत भी धारण किए। दोपहर में गुरुदेव राजेंद्रसूरीश्वरजी की गुरुपद महापूजन पढ़ाई गई। रात्रि में प्रभु की भक्ति की गई। श्री संघ के प्रवक्ता डॉ. प्रदीप संघवी ने बताया 18 मई को तीन दिवसीय महोत्सव का समापन होगा। इस दौरान कार्यक्रम आयोजक सुभाषचंद्र कोठारी के 60वें जन्म दिवस पर उनका सम्मान किया जाएगा। साथ ही प्रभु पूजन एवं प्रभुभक्ति की जाएगी।

Jhabua News - mp news human speed is the best speed in four motions in which the life of abstinence can be attained rajat chandra vijayji
X
Jhabua News - mp news human speed is the best speed in four motions in which the life of abstinence can be attained rajat chandra vijayji
Jhabua News - mp news human speed is the best speed in four motions in which the life of abstinence can be attained rajat chandra vijayji
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543