मौलिक अधिकारों को समझने के साथ कर्त्तव्य निभाना भी जरूरी

Jhabua News - संविधान ने हमें मौलिक अधिकारों के साथ कर्तव्य भी दिए हैं। इन अधिकार व कर्तव्यों को समझने के लिए शिक्षित होना...

Dec 04, 2019, 09:15 AM IST
Jobat News - mp news it is also necessary to fulfill the duty with understanding of fundamental rights
संविधान ने हमें मौलिक अधिकारों के साथ कर्तव्य भी दिए हैं। इन अधिकार व कर्तव्यों को समझने के लिए शिक्षित होना आवश्यक है। शिक्षा ही हमें समझने की क्षमता देती है। कन्या शिक्षा परिसर में आयोजित विधि सप्ताह कार्यक्रम में अपर न्यायाधीश एसआर सिनम ने यह बात कही। इस दौरान बड़ी संख्या में छात्राएं मौजूद थीं।

न्यायधीश सिनम ने भारतीय संविधान द्वारा प्रदाय मौलिक अधिकारों की विस्तृत जानकारी देते हुए बालिकाओं को आर्टिकल 17 के बारे में भी बताया। उन्होंने बताया कि भारत के नागरिकों को जाति, वर्ग व धर्म के आधार पर नहीं बांटा जा सकता। ऐसा करना कानून अपराध है। हमें इस तरह की भावनाएं भी नहीं रखनी चाहिए। भारत के संविधान में विचार, अभिव्यक्ति व विश्वास समाहित है। इसका निर्माण गहन अध्ययन के बाद किया गया है।

उन्होंने छात्राओं को संविधान प्रत्यक्ष रूप से बताया। साथ ही संविधान की प्रस्तावना भी पढ़कर सुनाई। उन्होंने बताया कि भारत गणराज्य का संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ. भीमराव आंबेडकर के 125वें जयंती वर्ष के रूप में 26 नवंबर 2015 से संविधान दिवस मनाया गया। संविधान सभा ने भारत के संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवंबर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया।

गणतंत्र भारत में 26 जनवरी 1950 से संविधान अमल में लाया गया। संविधान की 70वीं वर्षगांठ को पखवाड़े के रूप में देशभर में मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में संविधान की जानकारी जगह-जगह दी जा रही है। सिविल जज चंद्रशेखर राठौर ने भी बालिकाओं को संबोधित किया। साथ ही बालिकाओं को लैंगिक अपराध व उससे संबंधित कानून, शिक्षा का अधिकार अधिनियम, मोटर व्हीकल एक्ट, मारपीट, दंगा, घरेलू हिंसा इत्यादि कानून की धाराओं के बारे में भी विस्तार से बताया। अपराधों से बचने की सलाह देकर बालिकाओं को जागरूक किया। इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता लक्ष्मीनारायण देसला, संस्था प्राचार्य कविता वाणी, राजेश मंडलोई, बीएस चौहान, हिलता, विनिता, सुबह खत्री आदि उपस्थित थे। संचालन फिरोज सागर ने किया। आभार अशोक राठौड़ ने माना।

जाेबट. बालिकाअाें काे संविधान की जानकारी देते मुख्य अतिथी।

X
Jobat News - mp news it is also necessary to fulfill the duty with understanding of fundamental rights
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना