--Advertisement--

वन्य प्राणी संरक्षण सप्ताह में होंगी स्पर्धाएं

वन्य प्राणी संरक्षण सप्ताह में होंगी स्पर्धाएं झाबुआ | एक से 7 अक्टूबर तक वन्य-प्राणी संरक्षण सप्ताह में स्कूली...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:46 AM IST
वन्य प्राणी संरक्षण सप्ताह में होंगी स्पर्धाएं

झाबुआ | एक से 7 अक्टूबर तक वन्य-प्राणी संरक्षण सप्ताह में स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए स्पर्धाएं होंगी। वन्य-प्राणी संरक्षण पर व्याख्यान, निबंध, पेंटिंग आदि विभिन्न प्रतियोगिताएं होंगी। प्रत्येक परिक्षेत्र में 2 से अधिक संयुक्त वन प्रबंध समितियां कार्यक्रम आयोजित करेंगी। कार्यक्रम में स्थानीय समुदाय और सांस्कृतिक धरोहर का भी समावेश होगा। स्थानीय भजन मंडलियों द्वारा संरक्षण संबंधी गीतों का गायन, स्थानीय कलाकारों द्वारा गांव के भवनों की दीवारों पर वन्य-प्राणियों का चित्रण और वन्य-प्राणी पर केन्द्रित नाटिका का मंचन आदि कार्यक्रम भी होंगे।

सप्ताह का चेहरा बनी एएनएम सावित्री गोयल

झाबुआ | सप्ताह का चेहरा कार्यक्रम में इस सप्ताह का चेहरा उप स्वास्थ्य केंद्र उन्नई की एएनएम सावित्री गोयल बनी। कलेक्टर आशीष सक्सेना ने प्रशस्ति पत्र प्रदान कर उन्हें सम्मानित किया। उनका फ्लैक्स कलेक्टर कार्यालय सभाकक्ष में लगवाया। मुख्यालय पर निवास करते हुए उप स्वास्थ्य केंद्र पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के समान ही गांव स्तर पर ग्रामीणों को प्रसव सेवाएं देने के चलते गाेयल का चयन किया गया।

वनाधिकार दावों की अंतिम समीक्षा की

झाबुआ | जिला स्तरीय वनाधिकार समिति की बैठक सोमवार को कलेक्टर कार्यालय सभाकक्ष में हुई। कलेक्टर आशीष सक्सेना ने अध्यक्षता की। बैठक में विशेष अभियान अंतर्गत प्राप्त व्यक्तिगत एवं सामुदायिक दावों के संबंध में जिला स्तरीय अंतिम समीक्षा की। बैठक में आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त गणेश भाबर सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

निर्वाचन प्रचार के लिए बनाए हैं फेसबुक, ट्विटर अकाउंट

झाबुआ | विधानसभा निर्वाचन के लिए मीडिया प्रतिनिधियों की बैठक सोमवार को कलेक्टर आशीष सक्सेना ने ली। उन्होंने बताया निर्वाचन कार्य के प्रचार-प्रसार के लिए फेसबुक, ट्विटर अकाउंट बनाए गए हैं। आगामी विधानसभा निर्वाचन के लिए जिले में चलाए जा रहे स्वीप अभियान में वोट मशीन की जानकारी दी जा रही है।

सड़कों से जोड़े जाएंगे कम जनसंख्या के गांव

झाबुआ | प्रदेश के कम जनसंख्या और 500 मीटर अथवा कम दूरी के गांव बारहमासी सड़कों से जोड़े जाएंगे। इस कार्य के लिए राज्य शासन ने 335 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं। 571 किलोमीटर की 507 सड़कें बनाई जाएंगी।