• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Kailaras News
  • शहर विस्तार केे लिए नहीं मिले ‌‌‌Rs.200 करोड़ गांवों में बनेंगे स्टॉप डैम-सड़कें, स्कूल भवन
--Advertisement--

शहर विस्तार केे लिए नहीं मिले ‌‌‌Rs.200 करोड़ गांवों में बनेंगे स्टॉप डैम-सड़कें, स्कूल भवन

बीहड़ों के समतलीकरण के लिए सरकार ने नहीं दिया बजट पर्यटन स्थलों तक पहुंचने वाली 6 सड़कों के लिए नहीं मिली राशि ...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:40 AM IST
बीहड़ों के समतलीकरण के लिए सरकार ने नहीं दिया बजट

पर्यटन स्थलों तक पहुंचने वाली 6 सड़कों के लिए नहीं मिली राशि

भास्कर संवाददाता | मुरैना

मध्यप्रदेश विधानसभा में बुधवार को पेश बजट में मुरैना शहर के विस्तार हेतु पुनर्घनत्वीकरण योजना के लिए 200 करोड़ रुपए नहीं मिले, जबकि यह प्रस्ताव मुख्यमंत्री के साधिकार समिति केे पास 8 माह से पेंडिंग है। इसके अलावा 6 पुरास्थलों तक पहुंचने के लिए पक्की सड़कें, बीहड़ समतलीकरण योजना के लिए भी सरकार ने एक रुपया नहीं दिया। हालांकि ग्रामीण क्षेत्रों में 17 करोड़ की लागत से तीन स्टॉप डैम, 11 हायर सेकंडरी स्कूल भवन व 10 से अधिक ग्रामीण क्षेत्र की सड़कों के लिए करोड़ों रुपए स्वीकृत किए गए हैं।

बजट पर दैनिक भास्कर ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री व मुरैना विधायक रुस्तम सिंह से बातचीत की तो उनका कहना था स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के लिए बजट से पहले ही मुरैना को बहुत मिल चुका है। 62 करोड़ रुपए की लागत से जिला अस्पताल में 300 बेड की नई विंग बनाई जाएगी। इसके अलावा सीटी स्कैन मशीन समेत क्षयरोग की जांच सुविधा भी मरीजों को उपलब्ध करायी जा रही है। बानमोर से लेकर नूराबाद व परी‘छा के अस्पतालों का उन्नयन कराया जाना मंजूर हो चुका है।

बसपा विधायक बोले- ये मुंगेरीलाल का बजट, सत्तापक्ष के विधायकों ने कहा- सब कुछ तो मिल गया

जनता के लिए बजट में कुछ नहीं, सिर्फ मुंगेरीलाल के सपने

दिमनी से बसपा विधायक बलवीर सिंह दंडोतिया ने बजट पर तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आम बजट जनता की जरूरतों को पूरा नहीं कर रहा है। दिमनी क्षेत्र में 50 से अधिक गांवों में पीने के पानी की विकराल समस्या है। आवागमन के लिए गोपी से फूलपुरा,हनुमानपुरा व चौपियापुरा की सड़कें चार बार विधानसभा लगाने के बाद भी मंजूर नहीं की गई हैं।

इन सड़कों के लिए भी राशि स्वीकृत











नोट: राशि लाख रुपए में है।

सब कुछ तो मिला है

जौरा विधायक सूबेदार सिंह रजौधा का कहना है कि आम बजट में जिले की जनता को सब कुछ मिला है। जौरा विधानसभा क्षेत्र की बात करें तो मुख्यमंत्री ने नौ सड़कें तो पहले मंजूर कर दीं और सात अनुपूरक बजट में मंजूर हो जाएंगी। कैलारस-सबलगढ़ के बीच रक्षा मंत्रालय का प्रोजेक्ट लगेगा।

यह उम्मीदें रह गईं अधूरी

1. पुनर्घनत्वीकरण प्रोजेक्ट: 200 करोड़ रुपए की लागत से इस प्रोजेक्ट के तहत शहर की सब्जी मंडी में 95 आवास तोड़कर शॉपिंग मॉल बनना था। वहीं 5वीं बटालियन की ओर 180 नए आवास बनाए जाने जिससे शहर की बसाहट का विस्तार होता। हाउसिंग बोर्ड द्वारा यह प्रोजेक्ट सीएम की साधिकार समिति के पास 8 माह से पेंडिंग है।

2. बीहड़ समतलीकरण: चंबल के बीहड़ों को समतल करके यह जमीन भूमिहीन व गरीब किसानों को दी जानी थी, ताकि वे खेती-बाड़ी कर अपनी उदरपूर्ति कर सकें। मुरैना जिले की भौगोलिक स्थिति के नजरिए से महत्वपूर्ण इस प्रस्ताव पर सरकार ने इस बार भी जनता को मायूस किया।

3. पुरास्मारकों की 6 सड़कें: मुख्यमंत्री ने वर्ष 2013 में श्योपुर, मुरैना व भिंड जिले के पुरास्मारकों को जोड़कर पर्यटन हब बनाने की घोषणा की थी। इसके तहत 6 बड़ी सड़कों के लिए 45 से 50 करोड़ की राशि मंजूर होनी है। लेकिन इस वर्ष भी बजट में इन सड़कों के लिए कोई राशि नहीं दी गई।

(नोट:इसके अलावा सबलगढ़ को जिला बनाने के लिए कैलारस, विजयपुर व सबलगढ़ कस्बे के लोगों को इस वर्ष भी मायूसी ही मिली।)

यह पूरी तरह से चुनावी बजट है

अंबाह के बसपा विधायक सत्यप्रकाश ने आम बजट को चुनावी बजट करार देते हुए कहा है कि तंवरघार के लिए सरकार ने कुछ नहीं दिया। पोरसा में पॉलिटेक्निक, अंबाह-पोरसा क्षेत्र में संस्थागत-सुरक्षित प्रसव के लिए बड़ा जच्चाखाना बनाने, पोरसा में डाक्टरों की नियुक्ति करने के लिए कोई मंजूरी बजट में नजर नहीं आई है। रछेड़, रुधावली, खेरली व रठा में पुलिस थाने खोलने के लिए भी बजट में कोई प्रावधान नहीं है।

बजट में यह सौगात मिलीं

1. सिंचाई विस्तार के लिए बानमोर के पहाड़ी, माधौपुरा व पेड़ा में तीन नए स्टॉप डैम बनाने के लिए 17 करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं। इन स्टॉप डैम के निर्माण से हजारों हेक्टेयर जमीन को सिचाई के लिए पानी मिल सकेगा।

2. मुरैना में शासकीय उमावि बानमोर, सेमई, मांगरौल, नगरा, सांगौली, थरा, शा. उमावि जीडी जैन मुरैना, कुथियाना, कुम्हेरी व नयापुरा, कन्हार में नए स्कूल भवनों के लिए निर्माण हेतु राशि स्वीकृत की गई है। वहीं मुरैना में बाबू जगजीवन राम छात्रावास योजना के तहत एक करोड़ रुपए की लागत से 50 सीटर सीनियर गर्ल्स हॉस्टल बनाया जाएगा। सीडब्ल्यूएसएन योजना के तहत शहर में एक्सीलेंस छात्र- छात्रा हॉस्टल का निर्माण कराया जाएगा।

(नोट: इसके अलावा बारां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए भवन न स्टाफ आवास भी स्वीकृत किए गए हैं।)