--Advertisement--

दलितों पर हुए उत्पीड़न को लेकर माकपा ने दिया धरना

हजारों कुर्बानियों के बाद मिले लोकतंत्र संविधान को पूरी तरह से समाप्त करना चाहती है। इसीलिए पूरे देश में...

Danik Bhaskar | Jul 06, 2018, 03:05 AM IST
हजारों कुर्बानियों के बाद मिले लोकतंत्र संविधान को पूरी तरह से समाप्त करना चाहती है। इसीलिए पूरे देश में छात्रों,किसानों मजदूरों दलित समुदाय पर गोलियां बरसाई जा रही हैं। साथ ही गायों के नाम पर मुसलमानों को मारा जा रहा है। आंदोलन की हर आवाज पर लाठी व गोलियां से कुचलने की कोशिश जारी है। एक तरह से मप्र सहित पूरे देश में अघोषित आपात काल लगा दिया गया है। प्रदेश और देश में सत्तासीन भाजपा मनमानी कर रही है। यह बात माकपा के जिला सचिव ग्याराम ने धरना के दौरान संबोधित करते हुए कही। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और दलित शोषण मुक्त मंच के संयुक्त आह्वान पर पुरानी सब्जी मंडी रोड पर गुरुवार को आयोजित किया गया। यह धरना के दौरान 2 अप्रैल को हुए बंद आंदोलन में दलितों पर झूठे लगाए गए मुकद्दमे को वापस लेने के लिए दिया गया।