Hindi News »Madhya Pradesh »Kailaras» 8.63 करोड़ से बनेंगे युक्तियुक्तकरण स्कूल भवन

8.63 करोड़ से बनेंगे युक्तियुक्तकरण स्कूल भवन

69 अनुदानित स्कूल बंद, राज्य शिक्षा केन्द्र को भेजी नवीन स्कूल भवनों की प्रोजेक्ट रिपोर्ट, भास्कर संवाददाता |...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 09, 2018, 04:00 AM IST

69 अनुदानित स्कूल बंद, राज्य शिक्षा केन्द्र को भेजी नवीन स्कूल भवनों की प्रोजेक्ट रिपोर्ट,

भास्कर संवाददाता | मुरैना

जिले में 69 अनुदानित शालाओं के बंद होने के बाद उनके स्थान पर आठ करोड़ 63 लाख रुपए की लागत से नवीन प्राइमरी स्कूल भवन बनाए जाएंगे। इससे 4000 छात्र-छात्राओं को अपने भवन में बैठकर पढ़ने की सुविधा मिलेगी। हर एक किमी पर प्राइमरी स्कूल व तीन किमी के दायरे में मिडिल स्कूल की सुविधा के नियम को ध्यान में रखते हुए जिला शिक्षा केन्द्र ने बंद हुए 69 अनुदानित स्कूलों के स्थान पर नए प्राइमरी स्कूल भवन बनाने की कार्ययोजना पर काम शुरू कर दिया है। ऐसा इसलिए किया गया ताकि अनुदानित स्कूलों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को अपने गांव में पढ़ने की सुविधा मिलती रहे। इन स्कूलों का नाम युक्तियुक्तकरण स्कूल दिया गया है। युक्तियुक्तकरण स्कूल से तात्पर्य है कि अनुदान प्राप्त स्कूल शिक्षकों के रिटायर होने के बाद उन शालाओं के भवन में नए प्राइमरी स्कूल शुरू कर बच्चों को वहां अध्ययन की सुविधा देने से है।

कहां कितने अनुदानित स्कूल बंद : सर्वाधिक 27 अनुदान प्राप्त स्कूल जौरा क्षेत्र में बंद हुए हैं। 20 स्कूल पहाडग़ढ़ में, 12 मुरैना में,तीन कैलारस में, तीन सबलगढ़ में, चार अंबाह में व दो पोरसा में बंद हुए है। उन अनुदानित शालाओं के जीर्ण-शीर्ण भवनों में नए प्राइमरी स्कूल भवन बनने तक स्कूलों का संचालन किया जाएगा।

राज्य शिक्षा केन्द्र को भेजी नवीन स्कूल भवनों की प्रोजेक्ट रिपोर्ट

एक भवन 12.35 लाख रुपए की लागत से बनेगा

प्राइमरी स्कूल भवन के निर्माण के लिए राज्य शिक्षा केन्द्र 12 लाख 35 हजार रुपए की राशि स्वीकृत कर रहा है। इससे तीन कक्ष व एक बरामदा बनाने के साथ किचन व टॉयलेट का निर्माण कराया जाना अनिवार्य है। पेयजल उपलब्धता के लिए एक-एक हैंडपंप खनन भी कराया जाएगा। इस प्रकार 69 प्राइमरी स्कूल भवनों के निर्माण पर आठ करोड़ 63 लाख रुपए की लागत आएगी।

4000 छात्र होंगे लाभान्वित

युक्तियुक्तकरण स्कूलों के शुरू होने से 69 गांव के 4000 छात्र-छात्राओं को गांव में ही कक्षा एक से पांच तक पढ़ने की सुविधा मिलेगी।

सरकारी प्राइमरी स्कूलों का संचालन शुरू होने से छात्रों को गणवेश, किताब व छात्रवृत्ति की सुविधा भी मिलने लगी हैं। यह सुविधा प्राइवेट स्कूलों में नहीं मिलती है।

8.63 करोड़ रुपए से होगा भवनों का निर्माण

69 अनुदान प्राप्त स्कूलों के शिक्षकों के सेवानिवृत्त होने के बाद उनके स्थान पर प्राइमरी स्कूलों का संचालन शुरू किया गया है। नवीन स्कूल भवनों का निर्माण 8.63 करोड़ रु की लागत से कराया जाएगा। इसके लिए बजट की दरकार है। बजट मिलते ही जल्दी ही काम शुरू होगा। एमएस तोमर, जिला परियोजना समन्वयक

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kailaras

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×