• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Kailaras
  • भगवान धन के भूखे नहीं, निर्मल मन के भूखे हैं: बृजकिशोर शास्त्री
--Advertisement--

भगवान धन के भूखे नहीं, निर्मल मन के भूखे हैं: बृजकिशोर शास्त्री

सातवें दिन भक्तों ने बनाए 14 लाख शिवलिंग भास्कर संवाददाता | कैलारस भगवान सदा सर्वदा अपने भक्तों का ध्यान रखते...

Dainik Bhaskar

Aug 13, 2018, 06:56 AM IST
भगवान धन के भूखे नहीं, निर्मल मन के भूखे हैं: बृजकिशोर शास्त्री
सातवें दिन भक्तों ने बनाए 14 लाख शिवलिंग

भास्कर संवाददाता | कैलारस

भगवान सदा सर्वदा अपने भक्तों का ध्यान रखते हैं। भगवान को किसी के धन की आवश्यकता नहीं अपितु भगवान को निर्मल मन समर्पित करने वाला मनुष्य अत्यंत प्रिय होता है। हमारे प्रथम गुरु हैं माता-पिता इसलिए हमें अपने माता-पिता के प्रति जीवन भर समर्पित रहना चाहिए। जो माता पिता अपने पुत्रों की अपने बालकों की सेवा सुश्रुषा भरण-पोषण में अपना अमूल्य जीवन लगा कर के उनका पालन करते हैं। उन्हीं बच्चों को अपने माता पिता के लिए हमेशा श्रद्धा का भाव रखते हुए सेवा सुश्रुषा करनी चाहिए और अपने सनातन धर्म के प्रति सचेत रहते हुए मर्यादा बुद्ध जीवन जीने का प्रयास करते रहना चाहिए। यह बात कथा के दौरान कथा वाचक पं. बृजकिशोर शास्त्री ने वर्णन करते हुए कहीं।

नगर के गेल इंडिया सभागार में विगत सात दिवस से शिवलिंग व श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। भक्तों ने सातवें दिन 14 लाख पार्थेश्वर शिवलिंग का निर्माण कर लिया है। वहीं पार्थिव शिवलिंग को पूजा- अर्चना के बाद चंबल नदी में विसर्जन किया जाएगा। वहीं कथा के अंत में सुदामा चरित्र की कथा का आयोजन किया गया। कथा के अंत में पहले सुखदेव जी का पूजन किया गया। उसके बाद श्रीमद् भागवत कथा की आरती कर समापन किया गया। कथा में हर रोज सैकड़ों की संख्या में भक्तगणों ने पहुंचकर श्रवण किया।

X
भगवान धन के भूखे नहीं, निर्मल मन के भूखे हैं: बृजकिशोर शास्त्री
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..