Hindi News »Madhya Pradesh »Khachrodh» डीएलएड प्रशिक्षण का आखिरी दिन भी औपचारिक, मोबाइल पर बतियाते रहे

डीएलएड प्रशिक्षण का आखिरी दिन भी औपचारिक, मोबाइल पर बतियाते रहे

तहसील मुख्यालय स्थित शासकीय उत्कृष्ट उमावि में 15 दिनी डीएलएड प्रशिक्षण का आखिरी दिन भी औपचारिक ही रहा। तहसील के 100...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 04:55 AM IST

तहसील मुख्यालय स्थित शासकीय उत्कृष्ट उमावि में 15 दिनी डीएलएड प्रशिक्षण का आखिरी दिन भी औपचारिक ही रहा। तहसील के 100 अप्रशिक्षित शिक्षकों को 2 प्रशिक्षकों व 4 वेंडरों द्वारा अध्ययन विषय की जानकारी दी जाना थी, लेकिन अंतिम दिन दो कक्षाओं में में दोपहर 2 बजे तक प्रशिक्षक कभी प्रशिक्षण देने तो कभी स्कूल परिसर में घूमते, प्रशिक्षु शिक्षक भी मोबाइल पर बतियाते और झुंड बनाकर सोशल मीडिया पर टाइम पास करते नजर आए।

जब भास्कर ने अप्रशिक्षित शिक्षकों से चर्चा की तो पता चला प्रशिक्षक बी.एस. लोभानिया, ईश्वरलाल सोलंकी तो प्रशिक्षण कार्य कर रहे थे। एक अन्य शिक्षक विक्रम मकवाना का किसी कार्य से जाना बताया गया। प्रशिक्षक लोभानिया के अनुसार 100 अप्रशिक्षित शिक्षकों को दो कक्षाओं में प्रशिक्षण देने के कार्य में उनके व ईश्वरलाल सोलंकी के अलावा वेंडर के रूप में चार शिक्षक सुरेश नागर, विक्रम मकवाना, शिवनारायण सारविया व रणछोड़लाल नायमा को भी प्रशिक्षण कार्य में लगाया गया है। जिसमें से शिक्षक सुरेश नागर द्वारा कॉपी जांचने का कार्य करने, विक्रम मकवाना की परीक्षा में ड्यूटी होना बताया। शिक्षक शिवनारायण सारविया व रणछोड़लाल नायमा के अनुपस्थित रहने के प्रश्न पर लोभानिया कहने लगे वह भी आते हैं। हालांकि दोपहर 2.30 बजे बाद प्रशिक्षण कार्य पुन: प्रारंभ हुआ, परंतु शिक्षक सुरेश नागर, शिवनारायण सारविया व रणछोड़लाल नायमा प्रशिक्षण देते नजर नहीं आए। बीईओ एवं उत्कृष्ट विद्यालय प्राचार्य अर्जुनसिंह सोलंकी ने बताया शनिवार को प्रशिक्षण कार्य का आखिरी दिन था, शिक्षक प्रशिक्षण दे रहे हैं।

प्रशिक्षक के नहीं होने पर कक्षा में झुंड बनाकर बैठे प्रशिक्षु शिक्षक।

प्रशिक्षण के दौरान ही मोबाइल पर बात करती प्रशिक्षु शिक्षक।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Khachrodh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×