--Advertisement--

तीन विभागों ने कराया काम, मेहनताने के बदले नोटिस

Khachrodh News - शहर सहित ब्लॉक स्तर पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने अपने मूल विभाग के साथ स्वास्थ्य और निर्वाचन का काम भी किया।...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 07:10 AM IST
तीन विभागों ने कराया काम, मेहनताने के बदले नोटिस
शहर सहित ब्लॉक स्तर पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने अपने मूल विभाग के साथ स्वास्थ्य और निर्वाचन का काम भी किया। नियमानुसार इन्हें तीनों काम का मेहनताना दिया जाना था, लेकिन अन्य दो विभागों ने प्रोत्साहन राशि देने की बजाए महिला बाल विकास विभाग ने ही उन्हें पांच हजार की जगह 3 हजार ही वेतन दिया है। कारण बजट का टोटा होना बताया। कार्यकर्ताओं ने तब भी शिकायत नहीं की, लेकिन कलेक्टर ने उन्हें तीन दिन के भीतर लाड़ली लक्ष्मी योजना के लिए तय टारगेट पूरा नहीं करने पर नोटिस थमा दिया। कहा तीन दिन में टारगेट पूरा करो, अन्यथा कार्रवाई के लिए तैयार रहो। कार्यकर्ताओं का कहना है कि मतदाता सूची अपडेट करने के लिए उन्हें प्रतिमाह 500 रु. और टीबी की दवा खिलाने के लिए प्रति मरीज 1 हजार रु. प्रोत्साहन राशि देना तय है। निर्वाचन ने उन्हें 1 साल से भुगतान नहीं किया। स्वास्थ्य विभाग से भी प्रोत्साहन राशि कब मिलेगी, यह कोई नहीं बता रहा है।

इधर, बुधवार रात करीब 7.30 बजे आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने सांसद डॉ. चिंतामणि मालवीय का बिरलाग्राम में घेराव कर समस्याओं से अवगत कराया। डाॅ. मालवीय ने कार्यकर्ताओं को मांगों का जल्द निराकरण कराने का आश्वासन दिया।

इंतजार करना हाेगा, बजट की कमी से बनी समस्या

महिला बाल विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी डॉ सी.एल.पासी ने बताया बजट की कमी है। इसलिए कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं को जनवरी की प्रोत्साहन राशि नहीं मिली। मैंने सर्वर पर देखा है संभवत: एक दो दिन में बकाया राशि का भुगतान हो जाएगा। भवन किराया भी जल्दी ही खातों में डलवा देंगे।

प्रोत्साहन राशि बजट में उलझी : कार्यकर्ताओं को प्रतिमाह 3 हजार और सहायिकाओं को 1500 रु. वेतन मिलता है। दोनों को क्रमश: 2000 और 1500 रु. प्रोत्साहन राशि भी वेतन में जोड़कर दी जाती है। जनवरी के वेतन में उन्हें प्रोत्साहन राशि नहीं दी गई। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता संघ ने सीएम हेल्पलाइन में भी शिकायत की पर नतीजा नहीं मिला।

प्रोत्साहन राशि के साथ किराए के भवन में संचालित केंद्र का किराया भी 7 माह से बकाया है। इसकी वजह भी बजट का टोटा है। कार्यकर्ताओं को मकान मालिकों का गुस्सा तो झेलना ही पड़ रहा है। अधिकारी अलग काम पूरा करने के लिए धमका रहे हैं।

निर्वाचन ने मतदाता सूची और स्वास्थ्य विभाग ने दवा बंटवाई, खुद के विभाग ने वेतन में से काट दिए 2 हजार रुपए

बुधवार रात बिरलाग्राम में सांसद डॉ. मालवीय को पीड़ा सुनातीं कार्यकर्ताएं।

3 हजार में घर चलाएं कि त्योहार मनाएं

महिला एवं बाल विकास के अधीन नागदा-खाचरौद ब्लॉक में कुल 270 से अधिक कार्यकर्ता हैं, जिन्होंने निर्वाचन कार्य में बीएलओ का दायित्व निभाया। स्वास्थ्य विभाग को भी दवा खिलाने में सहयोग किया। बावजूद जनवरी में उन्हें 3 हजार का वेतन तो महिला बाल विकास विभाग ने दिया लेकिन हर माह देय 2 हजार रु. की प्रोत्साहन राशि काट ली। कहा बजट नहीं है। स्वास्थ्य विभाग व निर्वाचन कार्यालय से भी अब तक मेहनताने की राशि कार्यकर्ताओं को नहीं दी गई है। काम के बदले मेहनताना तो मिला नहीं उल्टा टारगेट पूरा नहीं करने के एवज में कार्यकर्ताओं को कलेक्टर ने नोटिस जरूर दे दिया।

X
तीन विभागों ने कराया काम, मेहनताने के बदले नोटिस
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..