• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Khachrodh
  • 100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती
--Advertisement--

100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती

भास्कर संवाददाता | नागदा/खाचरौद खाचरौद में रविवार को पारिवारिक विवाद सुलझाने पहुंचे 100 डायल स्टाफ ने आरोपी नहीं...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:20 AM IST
100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती
भास्कर संवाददाता | नागदा/खाचरौद

खाचरौद में रविवार को पारिवारिक विवाद सुलझाने पहुंचे 100 डायल स्टाफ ने आरोपी नहीं मिलने पर उसके चाचा को पकड़ लिया। फिर उसे इतना पीटा कि आईसीयू में भर्ती कराना पड़ा। पीड़ित ने अस्पताल के आईसीयू से ही एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर सोमवार को वायरल किया। इसमें पीड़ित दिलीप उमठ ने चोट के निशान दिखाते हुए न्याय मांगा है।

दिलीप के अनुसार रविवार रात 8 बजे स्टेशन रोड पर उनके भतीजे संतोष का विवाद परिवार के कुछ लोगों से हुआ था। पुलिस को सूचना मिली तो 100 डायल आ गई। विवाद में शामिल संतोष नहीं मिला। इस पर 100 डायल स्टाफ के प्रभारी प्रकाश मीणा ने संतोष के चाचा दिलीप उमठ, राधेश्याम उमठ और एक अन्य भतीजे ईश्वरलाल को पकड़ लिया। फिर इन्हें थाने ले लाया गया। यहां प्रकाश मीणा व अन्य जवानों ने तीनों के साथ मारपीट की। दिलीप को तो इतनी बेरहमी से पीटा कि वो बेसुध हो गया। हालत बिगड़ती देख पुलिस ने परिजन को थाने बुलाकर दिलीप को गंभीर हालत में सुपुर्द कर दिया। राधेश्याम और ईश्वरलाल को भी छोड़ दिया। परिजन गंभीर हालात में दिलीप को सरकारी अस्पताल लेकर पहुंचे, यहां डॉक्टरों ने उसकी स्थिति गंभीर बताकर नागदा के जनसेवा रैफर कर दिया। सोमवार शाम तक दिलीप जनसेवा में भर्ती था।

जिनको थाने लाकर इतना पीटा रिपोर्ट में उनका नाम तक नहीं, 100 डायल प्रभारी बोले- थाने में क्या हुआ नहीं पता

गुस्से का शिकार हुआ दिलीप चोट के निशान दिखाते हुए।

मामले में खाचरौद पुलिस ने पारिवारिक विवाद में बरखा लोहार की शिकायत पर संतोष पिता अशोक उमठ पर प्रकरण दर्ज किया। प्रकरण में कहीं भी दिलीप, राधेश्याम या ईश्वर का नाम दर्ज नहीं है। इसके अलावा दिलीप का घर भी संतोष के घर से कुछ दूरी पर है। अब सवाल यह है कि जब विवाद से इन तीनों का कोई लेना-देना नहीं था तो 100 डायल स्टाफ इनके साथ क्यों बेरहमी से पेश आया।

टीआई बोले- मुझे मामले की जानकारी नहीं

खाचरौद टीआई दिनेशसिंह वर्मा ने बताया मामला मारपीट का था। थाने में प्रकरण भी दर्ज हुआ है। 100 डायल स्टाफ ने किसी बेकसूर को पीटा है, तो पीड़ित को शिकायत करना चाहिए। आरोप सच साबित हुए तो किसी को नहीं छोड़ेंगे।

विवाद की सूचना मिली तो मैंने लाकर थाने छोड़ा


100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती
X
100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती
100 डायल टीम को आरोपी नहीं मिला तो चाचा को पकड़ा थाने लाकर इतना पीटा कि आईसीयू में कराना पड़ा भर्ती
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..