धोखाधड़ी / हर महीने इनाम में 16% रिटर्न व कार का दिया लालच, फंसे 300 से ज्यादा ग्रामीण



14 villagers from more than 10 villages report fraud of 1.05 crore
X
14 villagers from more than 10 villages report fraud of 1.05 crore

  • 10 से ज्यादा गांवों के 14 ग्रामीणों ने की 1.05 करोड़ डूबने की शिकायत, एसपी ने जांच के दिए आदेश
  • निट कार टैक्सी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में 7 से 25 लाख रुपए तक का निवेश कर दिया

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 03:59 PM IST

खरगोन. खरगोन जिले के ग्रामीण क्षेत्र में राशि जमा करने पर सालभर में हर माह 16 प्रतिशत रिटर्न मिलने व लक्जरी कार जीतने के प्रलोभन में लगभग 5 करोड़ की धोखाधड़ी का मामला आया है।

 

जिले के तीन थाना क्षेत्र के 10 से ज्यादा गांवों के निवेशकों ने करही क्षेत्र की निट कार टैक्सी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रमोटर व डायरेक्टरों की पुलिस में शिकायत है। आरंभिक शिकायतों में एक करोड़ पांच लाख रुपए की धोखाधड़ी सामने आ रही है। शिकायतकर्ताओं के मुताबिक जिले में 300 से ज्यादा लोगों के 7 लाख से 25 लाख रुपए फंसे हुए हैं। यह राशि 5 करोड़ रुपए के आसपास होने का अनुमान है। शिकायत पर पुलिस ने जांच शुरू की है।

 

कंपनी का कामकाज नागझिरी करही में चल रहा था। यहां पुलिस थाने के पास स्थित मुख्यालय पर जनवरी 2018 में बड़ा समारोह करके कुछ लोगों को कार सौंपकर जिले के ग्रामीण क्षेत्र के बड़ी संख्या में निवेशकों को आकर्षित किया था। ज्यादातर किसान, छोटे कारोबारी ठगी का शिकार हुए हैं। कसरावद, मेनगांव व गोगावां थाने पर पीड़ितों ने वाईज क्लीपिंग, फोटो व वीडियो सीडी के प्रमाण देकर शिकायत की है। मामले में खरगोन एसपी सुनील पांडेय ने शिकायत की पुष्टि की है। उन्होंने कहा जांच कराकर कार्रवाई करेंगे।

 

इंदौर ननि का बनवाया कारोबारी लाइसेंस
निवेशकों का मामला देख रहे हाई कोर्ट के अधिवक्ता अजयकुमार जैन बताते हैं राशि नहीं लौटाने पर मामला फर्जी लगा। पता किया तो कंपनी प्रमोटर-डायरेक्टर नितेश साहू ने नगर निगम इंदौर क्षेत्र का कारोबारी लाइसेंस बनवाया है। उसके दो आधार कार्ड हैं। उसमें फोटो एक जैसा है जबकि पते अलग-अलग। इसके अलावा पैनकार्ड भी दो से ज्यादा होने की जानकारी सामने आ रही है। मामला भारतीय दंड संहिता के अलावा मप्र के निवेशकों के संरक्षण अधिनियम के प्रावधान लागू होते हैं।

 

इस प्रकार से स्कीम का लालच देकर ग्रामीण निवेशकों को लुभाया
पीड़िताें की शिकायत के मुताबिक प्रमोटर डायरेक्टर नितेश जगदीश साहू नागझिरी करही, डायरेक्टर बंशीलाल छज्जुलाल नाडीवाला गोपालपुरा कसरावद व पुनीत बंशीलाल नाडीवाला कसरावद ने सालाना स्कीम में 7 से 25 लाख रुपए जमा कराने को कहा गया। इसमें हर माह 16 प्रतिशत राशि वापसी के अलावा लकी विजेता को हर माह स्कीम के हिसाब से अलग-अलग कार जीतने का मौका मिलने की बात निवेशकों ने बताई। शुरुआती कुछ महिनों तक राशि मिली भी। कार भी इनाम में मिली। बाद में अगले महिनों पर कार्यक्रम रखने का कहकर निवेशकों को समझाने लगे। कई लोगों को पक्की रसीदें तक नहीं दी गई। पिछले 10 महीने से कारोबार बंद होने व तंग निवेशकों ने पुलिस की शरण ली।

 

14 पीड़ितों ने तीन थानों में दर्ज कराई छोखाधड़ी की शिकायत
कुंडिया के अनिल कन्हैयालाल कर्मा, जितेंद्र बाबूलाल, शांतिलाल धन्नालाल, ठिबगांव के बलीराम राजाराम प्रजापत ने गोगावां थाना, बोरावां के हेमेंद्र कृष्णलाल यादव, उमाशंकर बली यादव व अनिल पिता रामलाल यादव व हेमराज पिता सुरेश यादव भनगांव, राजेंद्र पिता उद्धव यादव व हरि बलीराम यादव बोरावां, विकास ओमप्रकाश यादव ने कसरावद थाने व निमगुल के महेंद्र रेवाराम यादव, लखन मथुरालाल व लोकेश छगन यादव ने मेनगांव थाने पर शिकायत दर्ज कराई है।

 

जानिए... पीड़ितों की कहानी उन्हीं की जुबानी
 

कार देने के समारोह में ले गए। एकसाथ राशि जमा लेने से विश्वास बढ़ गया। एक बार 16 प्रतिशत की राशि मिली। अब सालभर से अगली तारीख दे रहे हैं।

 

हरि यादव, ठेकेदार बोरावां

कई परिचितों ने सदस्यता ली तो हमने भी कार के प्रलोभन व उनके भरोसे में 7 लाख रु. जमा कर दिए। सबक मिल गया लेकिन पुलिस को कार्रवाई करना चाहिए।

 

हेमराज यादव, भनगांव किसा


 

 ग्रामीण क्षेत्र के निवेशकों की शिकायत पर जांच के आदेश दिए हैं। कार्रवाई की जा रही है।

सुनील पांडेय, एसपी खरगोन

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना